Blog single photo

अगर SBI में है आपका बैंक अकाउंट, तो हो जाइए सतर्क, बैंक ने जारी की वॉर्निंग

देश का सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) अपने बैंक अकाउंट होल्डर्स को एक वॉट्सऐप मेसेज से बचकर रहने को कह रहा है। कहा जा रहा है कि यह मेसेज यूजर को फंसाकर उसके बैंकिंग डीटेल्स मां

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 मार्च): देश का सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) अपने बैंक अकाउंट होल्डर्स को एक वॉट्सऐप मेसेज से बचकर रहने को कह रहा है। कहा जा रहा है कि यह मेसेज यूजर को फंसाकर उसके बैंकिंग डीटेल्स मांग सकता है। एसबीआई का कहना है कि बैंक अपने अकाउंट होल्डर्स को मेसेज कर किसी वॉट्ऐप मेसेज के बदले ओटीपी शेयर न करने को कह रहा है। नए वॉट्सऐप के बारे में जाननी चाहिए ये बातें,यह स्कैम पहले यूजर्स को ओटीपी से जुड़ी जानकारियां देकर जागरूक करता है और उनका भरोसा जीतने के बाद असली ओटीपी शेयर करने को कहता है। ऐसा वॉट्सऐप मेसेज अक्सर किसी लिंक के साथ आता है जिसपर क्लिक करने पर बैकग्राउंड में कोई खतरनाक ऐप इंस्टॉल हो जाता है।इस ऐप की मदद से अटैकर फोन से ओटीपी चुरा सकता है, लेकिन यह स्कैम का दूसरा हिस्सा है। स्कैम के पहले हिस्से में फ्रॉड करने वाला बैंक कर्मचारी बनकर बात करता है और मौजूदा डेबिट या क्रेडिट कार्ड रीन्यू या अपग्रेड करने की बात कहकर डीटेल्स मांगता है।स्कैमर कार्ड अपग्रेड करने की बात कहकर डेबिट/क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी और कार्ड की एक्सपायरी डेट पूछता है।इसके बाद स्कैमर विक्टिम से किसी टेक्स्ट या वॉट्सऐप मेसेज आने की बात पूछता है और कहता है कि यह कार्ड अपग्रेड का कंफर्मेशन है।स्कैम के दूसरे हिस्से में स्कैमर फोन पर आए मेसेज के लिंक पर क्लिक करने और कार्ड अपग्रेड कंफर्म करने को कहता है।इस लिंक पर क्लिक करते ही आपके फोन में स्कैमर की मदद करने वाला ऐप बैकग्राउंड में इंस्टॉल हो जाता है। यह ऐप आपके फोन में आने वाले ओटीपी स्कैमर को भेजता है।इस तरह स्कैमर के पास कार्ड नंबर, सीवीवी और एक्सपायरी डेट से लेकर ओटीपी तक हर डीटेल पहुंच जाता है और वह कोई भी अनऑथराइज्ड ट्रांजैक्शन कर सकता है।लिंक पर क्लिक करने से इंस्टॉल हुए ऐप से हर अनऑथराइज्ड ट्रांजैक्शन के वक्त आपको फोन से सीधे स्कैमर को ओटीपी मिल जाता है।

अटैकर के ओटीपी डालते ही ट्रांजैक्शन वेरिफाई हो जाता है क्योंकि यही बैंक की दूसरी सिक्यॉरिटी लेयर होती है। अगर आपके साथ ऐसा कोई फ्रॉड हो जाए तो आपको तीन दिन के अंदर मामला रिपोर्ट करना होता है। ऐसा करने पर ही आप रिफंड क्लेम कर सकते हैं।ऐसा फ्रॉड रिपोर्ट करने के लिए 1800-11-1109 पर कॉल किया जा सकता है और बैंक कर्मचारी के पास पूरी शिकायत दर्ज करवाई जा सकती है।

आप चाहें तो 'Problem' लिखकर 9212500888 पर एसएमएस भेज सकते हैं या एसबीआई के ट्विटर हैंडल @SBICard_Connect पर भी रिपोर्ट कर सकते हैं। एसबीआई का कहना है कि अगर एसबीआई के कर्मचारी की गलती से कोई फ्रॉड होता है तो रिपोर्ट न होने पर भी अकाउंट होल्डर को पूरा रिफंड दिया जाएगा।

Tags :

NEXT STORY
Top