ST/SC हिंसा: एमपी में 5000 से ज्यादा पर मामला दर्ज, 200 गिरफ्तार

नई दिल्ली (4 अप्रैल): मध्य प्रदेश में दलित आंदोलन का सबसे ज़्यादा असर चंबल के तीन ज़िलों में देखने को मिला है, जिनमे भिंड, मुरैना और ग्वालियर शामिल हैं। अब तक आंदोलन में 8 लोगों की मौत हुई है, जिनमें 3 ग्वालियर में, 4 भिंड में और 1 मुरैना में है। जबकि मुरैना में 1000 प्रदर्शनकारियों पर मामला दर्ज किया गया है और 53 लोगों की गिरफ्तारी हुई है।

इसके अलावा मुरैना में जो शख्स सरेआम बंदूक लहर रहा था, उसपर NSA के कानून के तहत देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। भिंड की बात की जाए तो वहां पर अभी तक 3462 आंदोलनकारियों पर मामला दर्ज किया गया है, जिनमे से 62 लोगों की गिरफ्तारी हुई है।

ग्वालियर में 65 लोगों पर मामला दर्ज हुआ है, जिनमें से 2 दर्जन लोग गिरफ्तार किए गए हैं। सरेआम बंदूक चलाने वाले राजा सिंह चौहान पर भी 31 घंटे बाद 308 के धार में मामला दर्ज किया गया है, जो अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

इसके अलावा प्रदेश के दूसरे ज़िलव में करीब 600 और प्रदर्शनकारियों पर मामला दर्ज हुआ है। कुल मिलाकर मध्य प्रदेश में करीब 5000 से ज़्यादा प्रदर्शनकारियों के ऊपर पिछले 2 दिनों में पुलिस में मामला दर्ज किया है, जिनमें से करीब 200 आंदोलनकारी और अन्य गिरफ्तार किए गए हैं।