पीएम मोदी के कोलंबो पहुंचते ही श्रीलंका ने चीन को दिया ये बड़ा झटका

नई दिल्ली ( 12 मई ): श्रीलंका ने चीन की एक पनडुब्बी को कोलंबो के बंदरगाह में रखने को लेकर की गई पेइचिंग की अपील को खारिज कर दिया है। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के श्रीलंका पहुंचने के बाद सरकार के दो वरिष्ठ अधिकारियों ने यह जानकारी दी। श्रीलंका ने अक्टूबर 2014 में आखिरी बार किसी चीनी पनडुब्बी को कोलंबो बंदरगाह पर रखने की इजाजत दी थी जिसका भारत ने कड़ा विरोध किया था। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर श्रीलंका आए हुए हैं।


श्रीलंका सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कोलंबो में एक चीनी पनडुब्बी को रखने की पेइचिंग की अपील को खारिज कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका चीन की पनडुब्बी को किसी भी समय कोलंबो में रखने की अपील से 'सहमत नहीं था'। इस संबंध में उन्होंने भारत की चिंताओं का भी जिक्र किया। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए अधिकारी ने अपना नाम नहीं बताया।


रक्षा मंत्रालय के एक और अधिकारी ने चीन की पनडुब्बी को कोलंबो के डॉकयार्ड में रखे जाने की अपील को खारिज किए जाने की पुष्टि की, हालांकि उन्होंने कहा कि भविष्य में पनडुब्बी को रखे जाने का फैसला फिलहाल टाल दिया गया है। अधिकारी ने कहा, 'ऐसा बाद में हो सकता है।' उन्होंने बताया कि चीन ने 'कुछ दिन पहले' 16 मई के आसपास पनडुब्बी को बंदरगाह पर रखे जाने के लिए स्वीकृति मांगी थी। चीन के दूतावास के एक नजदीकी सूत्र ने इस बात की पुष्टि की है कि चीन ने अपनी पनडुब्बी को कोलंबो में रखने के लिए श्रीलंका से अपील की थी, लेकिन उसे अभी श्रीलंका के जवाब का इंतजार है।