श्रीलंका में सांप्रदायिक हिंसा की ये है बड़ी वजह

नई दिल्ली (06 मार्च): श्रीलंका की सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा को लेकर 10 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की है। इसके लिए देश में हो रही हिंसक घटनाओं के पीछे मुस्लिम और बौद्ध समुदाय के बीच फैल रहे तनाव को बताया गया है।

#FLASH Sri Lankan government has decided to impose emergency for 10 days to control law and order following violence against minority community in parts of Kandy district over last two days.

— ANI (@ANI) March 6, 2018

आपातकाल लगाने का फैसला कैबिनेट की विशेष मीटिंग में किया गया है। यह भी तय किया गया है कि जो लोग भी हिंसा करेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें कि 5 मार्च को कैंडी शहर में एक बौद्ध अनुयायी की मौत के बाद वहां धार्मिक हिंसा भड़क उठी। इसके बाद वहां कर्फ्यू लगा दिया गया। श्रीलंका पुलिस का कहना है कि कैंडी जिले में सप्ताहांत से हिंसा और आगजनी जारी थी। इसके बाद से हिंसा देश के अन्य हिस्सों में भी फैलने लगी।

वहीं बौद्ध समुदाय के सदस्य कैंडी में में पुलिस थाने के बाहर विरोध कर रहे हैं और दंगों में गिरफ्तार किए गए बौद्धों की रिहाई की मांग कर हैं। आपको बता दें कि पिछले कुछ सालों से श्रीलंका में दो समुदायों के बीच तनाव चल रहा है। बौद्ध लोगों द्वारा मुस्लिमों पर आरोप लगाया जाता रहा है कि वे लोगों का धर्म परिवर्तन करवा रहे हैं और बौद्ध पुरातात्विक स्थलों को तोड़ रहे हैं।