यहां आज भी आते हैं राधा-कृष्ण, जिसने भी देखा वो हो गया पागल !

NIDHI VAN

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 अगस्त): देशभर में भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है। जम्मू-कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश के हर हिस्से में कृष्ण जन्माष्टमी धूम धाम से मनाई जा रही है। देश के अलग-अलग हिस्सों में भगवान कृष्ण की झांकियां सजाई जा रही हैं। साथ ही इस अवसर पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं।

NIDHI VAN

मान्यता है कि वृंदावन में स्थित निधिवन में आज भी हर रात कृष्ण, गोपियों संग रासलीला करते हैं। इसलिए सुबह से दर्शन के लिए खुला रहने वाला निधि वन शाम को बंद हो जाता है और शाम के समय यहां किसी को रुकने नहीं दिया जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि जिसने भी यह रासलीला देखने के की कोशिश की वह या तो वह पागल हो गया या फि‍र उसकी मौत हो गई। वन के आसपास बने मकानों में खिड़कियां नहीं हैं। इतना ही नहीं निधिवन में दिन में रहने वाले पशु-पक्षी भी शाम होते ही निधिवन को छोड़कर चले जाते हैं।

NIDHI VAN

बताया जाता है कि निधिवन में मौजूद तुलसी के पेड़ है गोपियां बनती हैं। यहां तुलसी का हर पेड़ जोड़े में है। इसके पीछे यह मान्यता है कि जब राधा संग कृष्ण वन में रास रचाते हैं तब यही जोड़ेदार पेड़ गोपियां बन जाती हैं। जैसे ही सुबह होती है तो सब फिर तुलसी के पेड़ में बदल जाती हैं। निधिवन में लगे पेड़ों की डालें ऊपर की तरफ बढ़ने की बजाए जमीन की ओर बढ़ती हैं। फिलहाल यहां रास्ता बनाने के लिए पेड़ों को डंडे के सहारे रोका गया है।

(Image Credit: Google)