IPL 2022: अर्जुन तेंदुलकर पर रवि शास्त्री और मोहम्मद कैफ की राय जुदा, दिग्गज ने कहा- मिलना चाहिए मौका

मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) का IPL 2022 सीजन बेहद निराशाजनक रहा है। एमआई ने 13 मैचों में केवल तीन में जीत हासिल की है। पांच बार की आईपीएल चैंपियन फिलहाल छह अंकों के साथ अंक तालिका में सबसे निचले पायदान पर है।

IPL 2022: अर्जुन तेंदुलकर पर रवि शास्त्री और मोहम्मद कैफ की राय जुदा, दिग्गज ने कहा- मिलना चाहिए मौका
x

नई दिल्ली: मुंबई इंडियंस का आईपीएल सीजन बेहद निराशाजनक रहा है। एमआई ने 13 मैचों में केवल तीन में जीत हासिल की है। पांच बार की आईपीएल चैंपियन फिलहाल छह अंकों के साथ अंक तालिका में सबसे निचले पायदान पर है। आईपीएल इतिहास में सबसे सफल टीम शनिवार को दिल्ली कैपिटल्स से भिड़ेगी। इस सीजन के लीग का यह सबसे बड़ा मुकाबला होगा, क्योंकि दिल्ली कैपिटल्स के साथ ही आरसीबी की भी उम्मीदें इस मैच से जुड़ी हैं। 




और पढ़िए - SL Vs Ban: मैदान में घटी डरावनी घटना, प्लेयर को अचानक हुआ छाती में दर्द, अस्पताल में भर्ती




बहरहाल, इस मैच के लिए चर्चा तेज हो गई है कि क्या सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया जाएगा? क्या वे अंतिम मैच में डेब्यू कर पाने में सफल होंगे। एमआई ने दो सीजन में उन्हें खरीदा है और एक भी मैच में मौका नहीं दिया है। 


पहले ही दे चुकी होती मौका

बाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज अर्जुन को मुंबई ने 30 लाख में खरीदा था। यहां तक कि उन्होंने नेट्स में शानदार यॉर्कर डालकर अपनी प्रतिभा साबित की है। भारत के पूर्व बल्लेबाज मोहम्मद कैफ का मानना है कि अगर वह आईपीएल चुनौती के लिए तैयार होते तो फ्रेंचाइजी ने उन्हें पहले ही मौका दे चुकी होती। 




अर्जुन को अभी गेंदबाजी पर काम करने की जरूरत

कैफ ने कहा, अगर एमआई को लगता कि अर्जुन तेंदुलकर तैयार हैं, तो वे अब तक उसे मैच खिला चुके होते। मुझे लगता है कि उन्हें लगता है कि उन्हें अभी भी अपने खेल पर काम करने की जरूरत है। एक खिलाड़ी को आजमाने के लिए एक कप्तान आखिरी गेम तक इंतजार क्यों करेगा? अगर वह बेहतर होता, तो वह पहले ही प्लेइंग इलेवन में होता। मुझे नहीं लगता कि रोहित शर्मा ऐसे कप्तान हैं जो किसी खिलाड़ी को सिर्फ इसलिए आजमाएंगे क्योंकि यह आखिरी मैच है। एमआई अपने सर्वश्रेष्ठ संयोजन के साथ इस मैच को जीतने की कोशिश करना चाहेगी। 




और पढ़िए -





मौका क्यों नहीं?

दूसरी ओर भारत के पूर्व कोच रवि शास्त्री की राय जुदा है। शास्त्री ने कहा, क्यों नहीं? मैंने उसे नेट्स में देखा है। तेंदुलकर का नाम एक बड़ा नाम है। यदि वह 'ठीक ठाक' गेंदबाजी करता है, नई गेंद से बल्लेबाजों को घुमाता है, तो क्यों नहीं। अर्जुन लंबे हैं और उन्हें उछाल भी मिलता है, तो उन्हें अवसर दिया जा सकता है। अगर वे 11 मैच हार चुके हैं तो यह क्यों मायने रखता है? यदि वे अर्जुन को मौका देते हैं और वह अपने पहले मैच में अच्छा करता है तो यह भविष्य के लिए अच्छा है।


इससे पहले रोहित ने कहा कि टीम औसत सत्र के समापन से पहले अधिक से अधिक खिलाड़ियों को आजमाने की कोशिश कर रही है। एमआई की 10वीं हार के बाद रोहित ने कहा, "हम आखिरी गेम में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए अपनी तरफ से हर संभव कोशिश करेंगे। अगर कुछ और लोगों को आजमाने का मौका मिलता है, तो हम भी ऐसा करने की कोशिश करेंगे।







और
 पढ़िए - खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें












Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story