स्पेशल ओलिंपिक्स गोल्ड विनर दिहाड़ी पर काम करने को मजबूर

नई दिल्ली (26 दिसंबर ): एक तरफ जहां कई खिलाड़ी अपनी जिंदगी ऐसो आराम से जी रहे हैं, तो वहीं स्पेशल ओलिंपिक्स गोल्ड विनर दिहाड़ी पर मजदूरी करने को मजबूर है। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 गोल्ड मेडल जीतने वाले राजबीर सिंह को आजिविका चलाने के लिए दिहाड़ी लेबर और वीलचेयर खींचने का काम करना पड़ रहा है।

बीजेपी-सिरोमणी अकाली दल वाली पंजाब सरकार ने 15 लाख रुपये देने का वादा किया था, लेकिन पैसा नहीं मिला। साल के चैंपियन साइक्लिस्ट टूर्नामेंट के 1 और 2 किमी साइकिलिंग इवेंट का गोल्ड जीतने वाले राजबीर को पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने सम्मानित किया और 15 लाख रुपए के अलावा 1 लाख रुपए अतिरिक्त पुरस्कार भी देने का ऐलान किया, जबकि 10 लाख रुपये केंद्र सरकार की ओर से बॉन्ड्स के रूप में मिलने थे। 

इस बारे में मौजूदा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कहा, 'हमें इस बारे में जानकारी नहीं है। हालांकि, हम लोग पूरी जानकारी लेने के बाद राजबीर की हरसंभव मदद करेंगे।'