45 साल बाद चंद्रमा पर पहुंचेगा इंसान

नई दिल्ली ( 28 फरवरी ): अमेरिकी निजी स्पेस एजेंसी स्पेसएक्स अगले साल दो टूरिस्टों को च्रंदमा पर भेजने की तैयारी कर रही है। यह ऐसा पहला मौका होगा जब टूरिस्ट को चंद्रमा पर भेजा जाएगा। 45 साल बाद कोई इंसान चंद्रमा पर पहुंचेगा।

खबरों के मुताबिक स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क ने यह जानकारी दी कि "हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि दो प्राइवेट सिटिजन्स ने (चंद्रमा के लिए) उड़ान भरने को लेकर हमसे संपर्क किया है। यह मिशन अगले साल के आखिरी तक भेजा जाएगा।"

45 साल बाद फिर से कोई इंसान चंद्रमा पर जाएगा मस्क ने कहा कि "इंसान के लिए 45 साल बाद डीप स्पेस में वापसी का यह मौका होगा। वे सोलर सिस्टम में पहले से कहीं तेज और आगे ट्रैवल करेंगे।" मस्क ने बताया कि "चंद्रमा पर जाने वालों ने काफी कुछ पेमेंट भी कर दिया है।"

टूरिस्ट की ट्रेनिंग और हेल्थ टेस्ट इस साल के आखिरी तक शुरू हो जाएंगे। स्पेसएक्स का कार्गो शिप हाल ही में इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर रसद लेकर रवाना हुआ था। बाद में स्पेसएक्स रॉकेट ने जमीन पर सीधी लैंडिंग की थी। यह पहला मौका था, जब किसी रॉकेट को जमीन पर लैंड कराया गया था।

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने 16 जुलाई 1969 को चंद्रमा पर अपोलो-11 स्पेसक्राफ्ट भेजा था। इससे एस्ट्रोनॉट नील आर्मस्ट्रॉन्ग, एल्विन एल्ड्रिन और माइकल कॉलिंस को भेजा गया था। 20 जुलाई 1969 को आर्मस्ट्रॉन्ग चंद्रमा पर कदम रखने वाले पहले इंसान बने। उनके बाद एल्विन एल्ड्रिन चंद्रमा पर उतरे। 11 दिसंबर 1972 को आखिरी बार चंद्रमा पर इंसान ने कदम रखे थे।