स्पेसएक्स ने पहली बार भेजा रिसाइकल्ड रॉकेट, रचा इतिहास


नई दिल्ली(31 मार्च): अमेरिकी कारोबारी एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने शुक्रवार तड़के 3.55 बजे पहली बार रिसाइकल्ड रॉकेट फाल्कन-9 भेजकर इतिहास रच दिया।


- कंपनी ने इसके लिए सोमवार को सफल टेस्टिंग की थी।


- कंपनी उन बूस्टर रॉकेट्स का फिर इस्तेमाल कर रही है जो इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में एस्ट्रोनॉट्स के लिए खाने का और जरूरी सामान ले जाते रहे हैं।


- न्यूज एजेंसी के मुताबिक डीटीएच और नेट सर्विस प्रोवाइडर एसईएस-10 सैटेलाइट को लेकर फाल्कन-9 शुक्रवार तड़के रवाना हुआ। फाल्कन 9 को फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर से छोड़ा गया।


- पहले इस्तेमाल किए जा चुके किसी रॉकेट के दोबारा इस्तेमाल का यह पहला मामला है।


- स्पेसएक्स का दावा है कि रीयूजेबल रॉकेट से स्पेस प्रोग्राम की कॉस्ट में कमी आएगी। रूसी, जापानी और यूरोपियन स्पेस एजेंसियां भी इस टेक्नोलॉजी पर काम कर रही हैं, पर फिलहाल टेस्टिंग स्टेज में ही हैं।


- दरअसल, स्पेस में किसी सेटेलाइट को भेजने के लिए रॉकेट का इस्तेमाल किया जाता है। किसी प्रोग्राम की कॉस्ट का बड़ा हिस्सा रॉकेट पर ही खर्च होता है। स्पेसएक्स लंबे वक्त से ऐसे रॉकेट पर एक्सपेरिमेंट कर रही थी, जिसे एक से ज्यादा बार इस्तेमाल किया जा सके। अब यह एक्सपेरिमेंट सफल हो गया है।


- इस मिशन की पहली स्टेज 7 अप्रैल 2016 को सफल हुई थी, जब फाल्कन-9 रॉकेट को ड्रोनशिप पर कामयाबी से उतारा गया था। तब नासा की प्रेस कॉन्फ्रेंस में अरबपति कारोबारी एलन ने घोषणा की थी कि हमारी कंपनी इस रॉकेट को दोबारा भेजेगी।