जौनपुर: एसपी ब्लॉक प्रमुख की गुंडागर्दी के बाद इंस्पेक्टर समेत थाना लाइन हाज़िर

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 दिसंबर): जौनपुर में एसपी ब्लॉक प्रमुख की गुंडागर्दी के मामले में पुलिस अफसरों पर गाज गिरी है। एसपी दिनेश पाल सिंह के आदेश पर हुई इंस्पेक्टर समेत थाने के सभी अफसरों को लाइन हाज़िर कर दिया है। मामले में 5 आरोपियों में एक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बता दें कि यूपी के जौनपुर में ब्लॉक प्रमुख की गुंडागर्दी का ऐसा वीडियो वायरल हुआ था, जिसे देखकर आप दहल उठेंगे। इस वीडियो में ब्लॉक प्रमुख खुद मौके पर खड़े होकर महिलाओं की पिटवाता नजर आ रहा है। कार्रवाई को लेकर पहले ढिलाई बरतने वाली पुलिस वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आई, लेकिन इसी के साथ ही प्रशासन ने इस मामले में संझान लेते हुए इंस्पेक्टर समेत थाने के सभी अफसरों को लाइन हाज़िर कर दिया है। मामले में 5 आरोपियों में एक को गिरफ्तार कर लिया गया है।


दरअसल, यूपी के जौनपुर के करंजाकला ब्लॉक प्रमुख दीपचंद सोनकर ने अपने गुर्गे से इस कदर महिलाओं को पिटवाया जिसे देखकर रूह कांप उठे। खेत में खदेड़-खदेड़कर दीपचंद सोनकर का गुर्गा महिलाओं पर बड़ी ही बेरहमी से डंडे बरसाता रहा। ब्लॉक प्रमुख का ये गुंडा एक महिला को खेत में पटक-पटककर उस पर इस कदर वार करता रहा जैसे उसकी जान लेने पर आमादा हो। इसके बाद मौके पर मौजूद कुछ लोग महिला को बचाने खेत में दौड़े।

उधर ब्लॉक प्रमुख का गुंडा महिलाओं पर कहर ढा रहा था। इधर खुद ब्लॉक प्रमुख उसे उकसाता रहा। ब्लॉक प्रमुख के साथ मौजूद उसका गनर भी मौके पर बंदूक लहरा-लहराकर महिलाओं को डराने-धमकाने की कोशिश कर रहा था। दरअसल ककोर गांव की महिलाओं और ब्लॉक प्रमुख के बीच जमीन और रास्ते को लेकर विवाद हुआ, जिसके चलते 14 दिसंबर को ब्लॉक प्रमुख दीपचंद सोनकर सरेआम गुंडागर्दी पर उतर आया और महिलाओं को अपने गुंडों से बुरी तरह पिटवाया। खुद पर ढाए गए इस जुल्म की शिकायत करने महिलाएं सरायख्वाजा थाना पहुंची, लेकिन हैरानी की बात ये है कि कानून का राज कायम करने सर्वसमाज के लोगों और मजहब की पूरी हिफाजत का दावा करने वाली यूपी पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी।

आरोप है कि इसके चलते पुलिस आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बदले उल्टा पीड़ितों को ही डांट-डपटकर चुप कराने की कोशिश करती रही। हालांकि उसने पीड़ितों की शिकायत तो ले ली, लेकिन ब्लॉक प्रमुख को बचाने के मकसद से मामले में कमजोर धारा लगा दी। ब्लॉक प्रमुख की गुंडागर्दी का वीडियो वायरल होने और मीडिया में दिखाये जाने के बाद पुलिस की नींद टूटी और फिर आनन-फानन में एसपी ने ब्लॉक प्रमुख समेत बाकी आरोपियों के खिलाफ धाराओं में बदलाव करते हुए ना सिर्फ उनकी गिरफ्तारी का आदेश दिया बल्कि मामले में पुलिस की भूमिका की जांच भी शुरू करवाई।

इस मामले को लेकर समाजवादी पार्टी ने महिलाओं के साथ बर्बरता से पेश आने वाले ब्लॉक प्रमुख दीपचंद सोनकर को पार्टी से निकालते हुए ट्विट के जरिए अपना रुख साफ किया है, जिसमें लिखा गया है, ''जौनपुर जिले में सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत से महिलाओं पर अत्याचार एवं अभद्र व्यवहार करने वाले सभी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को समाजवादी पार्टी निष्कासित करती है। सरकार से मांग है कि घटना में लिप्त सभी आरोपियों पर कार्रवाई की जाए।''