दुनिया के इस पूर्व 'नंबर वन' गेंदबाज पर लगा 8 साल का बैन

नई दिल्ली (12 जुलाई): फिक्सिंग की फांस में एक और दक्षिण अफ्रिकी खिलाड़ी फंस गया है। कभी दुनिया का नंबर वन गेंदबाज रहे लोनवाबो सोत्सोबे पर फिक्सिंग का काला साया मंडरा रहा है। फिक्सिंग के आरोप में लोनवाबो सोत्सोबे पर 8 साल का बैन लगा दिया गया है। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व टेस्ट गेंदबाज लोनवाबो सोत्सोबे पर 2015 के मैच फिक्सिंग के आरोप में क्रिकेट साउथ अफ्रीका ने ये बैन लगाया है। इस स्कैंडल में प्रतिबंधित होने वाले सोतसोबे सातवें खिलाड़ी बन गए हैं।


5 टेस्ट और 61 वनडे खेलने वाले 33 साल के तेज गेंदबाज लोनवाबो सोत्सोबे पर अप्रैल में दक्षिण अफ्रीका के घरेलू T-20 मैचों की सीरीज में मैच फिक्स करने और रिश्वत लेने का आरोप है। लोनवाबो सोत्सोबे ने मैच फिक्स करने की कोशिश करने और विभिन्न जांचों के दौरान 9 अलग आरोपों के साथ ठीक ढंग से सहयोग न करने के आरोपों को स्वीकार किया है।


लोनवाबो सोत्सोबे का कहना है कि मैं उस समय बहुत ही खराब आर्थिक स्थिति से गुजर रहा था और इस दुविधा ने बहुत ही आसानी से मुझे स्पॉट फिक्सिंग में भाग लेने के लिए लुभाया। साथ ही उन्होंने कहा था कि मेरे कार्यों के लिए मुझे जो अफसोस है उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। मैं उम्मीद करता हूं कि क्रिकेट जगह मेरी माफी और मेरी पश्चाताप की मेरी गहरी भावना को स्वीकार करे।


लोनवाबो सोत्सोबे के अलावा इस फिक्सिंग स्कैंडल में गुलाम बोदी, जीन साइमेस, पुमी मैट्सकिवे, एथी भलाटी, थमी सोलेकाइल और एल्वीरो पीटरसन पर 2 से 20 साल का बैन लगाया है। हालांकि CSA ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि वास्तव में कोई भी मैच फिक्स नहीं किए गए थे, ये जांच अब बंद कर दी गई है।