सौरव गांगुली के मन में आज भी है 2003 के वर्ल्ड कप की कसक, धोनी को लेकर कही ये बातें


नई दिल्ली (2 मार्च):
दादा के नाम से मशहूर टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के मन में आज भी 2003 के वर्ल्ड कप के फाइनल में हार की कसक है। इसी कड़ी सौरव गांगुली ने महेंद्र सिंह धोनी को लेकर बड़ी बातें कही है। सौरव गांगुली ने अपनी आत्‍मकथा 'A Century is Not Enough' में अपने इंटरनेशनल क्रिकेट से जुड़े दिनों के बारे में विस्‍तार से बताया है। इसमें उन्‍होंने महेंद्र सिंह धोनी के बारे में अपनी राय जाहिर की है। आपको बता दें कि सौरव की कप्‍तानी में ही धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्‍यू किया था। गांगुली ने ही धोनी की क्षमता को पहचानते हुए उन्‍हें टॉप ऑर्डर पर बैटिंग के लिए प्रमोट किया था, जिसका धोनी ने भरपुर फायदा उठाया और आज इस मुकाम पर पहुंचे हैं।

गांगुली ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में लिखा है कि मैंने कई सालों तक ऐसे खिलाड़ि‍यों पर लगातार नजर रखी तो दबाव के क्षणों में भी शांत रहते हैं और अपनी काबिलियत से मैच की तस्‍वीर बदल सकते हैं। महेंद्र सिंह धोनी पर वर्ष 2004 में मेरा ध्‍यान गया, वे इसी तरह के खिलाड़ी थे। मैं पहले ही दिन से धोनी से बेहद प्रभावित हुआ था। गांगुली ने आगे लिखा कि काश, धोनी वर्ल्‍डकप 2003 की मेरी टीम में होते। मुझे बताया गया कि जब हम वर्ष 2003 के वर्ल्‍डकप के फाइनल में खेल रहे थे, उस समय भी धोनी भारतीय रेलवे में टिकट कलेक्‍टर (टीसी) थे। अविश्‍वसनीय।

गांगुली ने कहा कि आज मैं इस बात से खुश हूं कि मेरा अनुमान (धोनी को लेकर) सही साबित हुआ। यह शानदार है कि धोनी ने आज अपने आपको एक बड़े खिलाड़ी के रूप में स्‍थापित किया है।

आपको बता दें कि सौरव ने अपना अंतिम इंटरनेशनल मैच नवंबर 2008 में खेला था। ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ यह चौथा टेस्‍ट नागपुर में खेला गया था। मजे की बात यह है कि इस मैच में धोनी ही भारतीय टीम के कप्‍तान थे। माही ने इस मैच में गांगुली के प्रति सम्‍मान जताते हुए उन्‍हें अंतिम बार भारतीय टीम का नेतृत्‍व करने का मौका दिया था। सौरव गांगुली ने भारत की ओर से 113 टेस्‍ट और 311 वनडे मैच खेले। टेस्‍ट क्रिकेट में उन्‍होंने 42.17 के औसत से 7212 रन बनाए, जिसमें 16 शतक शामिल रहे। अपने पहले ही टेस्‍ट में उन्‍होंने शतक जमाने का कारनामा किया था। उन्होंने वनडे में 41.02 के औसत से 11363 रन बनाए जिसमें 22 शतक और 72 अर्धशतक शामिल थे। टेस्‍ट में 239 रन और वनडे में 183 रन का उनका सर्वोच्‍च स्‍कोर रहा।