अच्छी फॉर्म के बावजूद मुझे भी मिताली की तरह ड्रॉप किया गया था: सौरव गांगुली

न्यूज 24 ब्यूरो,नई दिल्ली (25 नवंबर): टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली महिला क्रिकेट टीम की सबसे सीनियर खिलाड़ी मिताली राज को इंग्लैंड के खिलाफ विश्व टी20 के सेमीफाइनल में बाहर किए जाने से हैरान नहीं है और उन्होंने कहा कि जब वह अपने करियर के चरम पर थे तब उन्हें भी इसी तरह से बाहर किया गया था। वनडे टीम की कप्तान मिताली ने पाकिस्तान और आयरलैंड के खिलाफ अर्धशतक जमाए, लेकिन उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम लीग मैच से विश्राम दिया गया और इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में भी उन्हें अंतिम एकादश में नहीं रखा गया, जिसमें भारत को आठ विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी।

गांगुली ने कहा कि भारत की कप्तानी करने के बाद मुझे भी डगआउट में बैठना पड़ा था। जब मैंने देखा कि मिताली राज को भी बाहर किया गया है तो मैंने कहा कि इस ग्रुप में आपका स्वागत है। इस 46 वर्षीय खिलाड़ी ने पाकिस्तान के खिलाफ 2006 में खेले गये दूसरे टेस्ट मैच को याद करते हुए कहा कि कप्तान आपको बाहर बैठने के लिए कहते हैं तो वैसा करो। मैंने फैसलाबाद में ऐसा किया था। मैं 15 महीने तक वनडे नहीं खेला जबकि मैं संभवत: वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा था। जिंदगी में ऐसा होता है। कभी कभी दुनिया में आपको बाहर का रास्ता भी दिखाया जाता है। गांगुली ने हालांकि कहा कि मिताली के लिए रास्ते अभी बंद नहीं हुए हैं।

गांगुली ने धौनी के बारे में बात करते हुए कहा कि उनके पास अब भी बड़े छक्के लगाने की ताकत है और वो फिर से नई उंचाई पर जा सकते हैं। वो चैंपियन हैं और टी 20 विश्व कप का खिताब जीतने के 12-13 वर्ष तक उनका क्रिकेट करियर शानदार रहा है। गांगुली ने कहा कि आपने जो भी हासिल किया है, आपकी उम्र कितनी भी हो या फिर आप जो भी कर रहे हैं या जो भी हैं आपको टॉप लेवल पर प्रदर्शन करना ही पड़ता है नहीं तो आपकी जगह कोई और ले सकता है। मैं उन्हें अगले सीरीज के लिए शुभकामनाएं देता हूं क्योंकि मैं चाहता हूं कि ये चैंपियन एक बार फिर से अपने करियर में नई उंचाईयों को छुए। मुझे लगता है कि वो गेंद को स्टैंड में पहुंचा सकते हैं। वो कमाल के क्रिकेटर हैं। 

2019 विश्व कप टीम के बारे में गांगुली ने कहा कि वो सेलेक्टर तो नहीं हैं लेकिन मुझे लगता है कि मौजूदा टीम के लगभग 90 फीसदी खिलाड़ी अगले विश्व कप में खेलेंगे। विराट के बारे में उन्होंने कहा कि वो शानदार क्रिकेटर हैं और भारतीय टीम को उनके जैसे कप्तान की ही जरूरत है।