राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर सोनिया गांधी ने कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली (17 दिसंबर): कांग्रेस की 19 साल तक कमान संभालने के बाद सोनिया गांधी ने शनिवार को कांग्रेस की कमान अपने बेटे राहुल गांधी को सौंप दिया। बतौर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया का आखिरी भाषण राजनीति में उनके जीवन में आए उतार-चढ़ावों के किस्सों से भरा था।

47 वर्षीय राहुल गांधी ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभाल लिया। उन्हें कांग्रेस प्रेसिडेंट इलेक्शन के रिटर्निंग अफसर मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने सर्टिफिकेट दिया। इस मौके पर सोनिया गांधी ने कहा- "मैं राहुल को अध्यक्ष बनने की शुभकामनाएं, बधाई और आशीर्वाद देती हूं। आज मैं आखिरी बार कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर संबोधित कर रही हूं।

सोनिया गांधी ने कहा, 'युवा नेतृत्व के आने से पार्टी में नया जोश आएगा। राहुल बेटा है, उसकी तारीफ करना मुझे उचित नहीं लगता। इतना जरूर कहूंगी कि राजनीति में आने पर उसने एक ऐसे व्यक्तिगत हमले का सामना किया जिसने उसे निडर और मजबूत इंसान बनाया है। मुझे उसकी सहनशीलता पर गर्व है। साथियों, 20 साल गुजर रहे हैं, आज इस जिम्मेदारी को छोड़ते हुए सभी कांग्रेसजनों और देश के नागरिकों द्वारा दिए गए असीम प्यार, स्नेह के लिए शुक्रिया करती हूं।

सोनिया गांधी ने सास और पति के बलिदान और अपने संघर्ष के भावुक जिक्र से जहां वह राहुल को साहस का संदेश देती दिखीं, वहीं कांग्रेसियों को चेताया कि पार्टी के सामने जितनी बड़ी चुनौती आज है, उतनी बड़ी कभी नहीं थी। सोनिया ने बेटे राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर पूरा विश्वास जताते हुए कहा कि राजनीतिक हमलों ने उन्हें और मजबूत व दृढ़ बनाया है।