देश की आत्मा को झकझोरने वाले निर्भया मामले में मिला न्याय: सोनिया गांधी

नई दिल्ली (5 मई): पूरे देश को झकझोरने वाले निर्भया गैंगरेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने चारों दोषियों की मौत की सजा अपनी मुहर लगा दी है। निर्भया के चारों हत्यारों ने फांसी की सजा के खिलाफ कोर्ट में अर्जी लगाई थी, जिस पर बहस के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फैसले को बरकरार रखा है।निर्भया के दरिंदों की फांसी की सजा पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर लगने पर तमाम लोगों ने संतोष जताया है और खुशी का इजहार किया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले पर कहा कि भारत की आत्मा को झकझोरने वाले निर्भया मामले में न्याय किया गया है।


सोनिया गांधी ने अपने एक संदेश में कहा है कि मेरी संपूर्ण संवदेना भारत की साहसी बेटी के बहादुर परिजनों के साथ है। उन्होंने कहा कि इन परिजनों का संघर्ष यौन हिंसा के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली प्रत्येक महिला के संघर्ष का प्रतीक बन गया है। इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी मुख्यालय में नियमित ब्रीफिंग में कहा कि कांग्रेस उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करती है और ऐसे समाज का निर्माण करने का आह्वान करती है जिसमें ऐसे अपराध नहीं हो। चार वर्ष के बाद भी समाज में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के संदर्भ में हालात नहीं बदले हैं। सरकार और समाज को ऐसा माहौल बनाने की जरुरत है जहां महिलाओं के खिलाफ हिंसा नहीं हो।