सोनभद्र हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों से मिले सीएम योगी, कहा- सपा से जुड़े हैं अपराधियों के तार

yogi

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(21 जुलाई):  यूपी के सोनभद्र की हुई गोलीबारी में मारे गए परिवारों से रविवार को सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुलाकात की। पीड़ितों से मिलने के बाद योगी आदित्यनाथ ने सपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अपराधियों के लिंक समाजवादी पार्टी से जुड़े है और यह पाप कांग्रेस का है। सरकार ने प्रधान और उनके सभी लोगों को गिरफ्तार किया है और हथियार भी बरामद कर लिए गए हैं। इस मामले में दो कमेटी बनाई है। पुलिस के स्तर पर कहां लापरवाही हुई है इसकी जांच की जा रही है। जब इसकी जानकारी पहले से थी। कई पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई है और जांच की जा रही है कि कई और अधिकारी शामिल नहीं है। सीएम ने कहा कि नेपाल से जुड़े बॉर्डरों पर हमने काम किया है। सोनभद्र में काम कर रहे हैं। इस तरह की घटनाएं भविष्य में ना हो इस पर कार्रवाई कर रहे हैं। वही सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीड़ितों को आर्थिक सहायता के रूप में 18-18 लाख रुपये का मुआवजा देने का भी ऐलान किया है। 

उभ्भा गांव से लौटने पर कलक्ट्रेट में सीएम योगी ने मीडिया से बात की लेकिन कोई सवाल नहीं लिया। सीएम ने कहा कि मुख्य आरोपी प्रधान सपा का कार्यकर्ता है। उसका भाई बसपा का कार्यकर्ता है। आयोपितों पर रासुका के तहत कार्रवाई होगी। योगी ने कहा कि घटना के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है। उसी के समय ग्राम समाज की जमीन सोसाइटी के नाम की गई थी। तत्कालीन सांसद की सोसाइटी थी। उन्होंने कहा कि  सोनभद्र में जितनी भी राजस्व की जमीन होगी सभी की जांच होगी और सोनभद्र में राजस्व परिषद का गठन होगा। आदिवासियों के लिए आवासीय विद्यालय भी खोला जाएगा। सोनभद्र के ओबरा को तहसील बनाने और कोन के साथ कर्मा को ब्लाक बनाने का प्रस्ताव भेजने की बात भी कही।सीएम ने कहा कि जिस उभ्भा गांव में दस लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया वहां पुलिस चौकी बनेगी। घोरावल में फायर स्टेशन बनेगा।

यह है पूरा मामला

17 जुलाई को सोनभद्र में घोरावल के उभ्भा गांव में 112 बीघा खेत के लिए दस ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया गया था। लगभग चार करोड़ रुपए की कीमत की इस जमीन के लिए प्रधान और उसके पक्ष ने ग्रामीणों पर अंधाधुन फायरिंग कर दी थी। इस हादसे में 25 अन्य लोग घायल हो गए थे।

ऐसे हुई थी घटना

सोनभद्र में घोरावल के उम्भा गांव में 112 बीघा खेत जोतने के लिए गांव का प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर 32 ट्रैक्टर लेकर पहुंचा था। इन ट्रैक्टरों पर लगभग 60 से 70 लोग सवार थे। यह लोग अपने साथ लाठी-डंडा, भाला-बल्लम और राइफल और बंदूक लेकर आए थे। गांव में पहुंचते ही इन लोगों ने ट्रैक्टरों से खेत जोतना शुरू कर दिया। जब ग्रामीणों ने विरोध किया तो यज्ञदत्त और उनके लोगों ने ग्रामीणों पर लाठी-डंडा, भाला-बल्लम के साथ ही राइफल और बंदूक से भी गोलियां चलानी शुरू कर दी।