दुनिया के पहले सोलर विमान ने लगाया पूरे विश्व का चक्कर

नई दिल्ली (26 जुलाई): दुनिया का पहला सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान इंपल्स-2 ने पूरी दुनिया का चक्कर लगाकर इतिहास रच दिया है। अपने अंतिम सफर के बाद मंगलवार को आबू धाबी में उतरा। 

बता दें कि सौर विमान ने अपनी यह यात्रा एक साल से अधिक समय पहले शुरू की थी। 40,000 किलोमीटर पूरा करने के बाद विमान ने आबू धाबी में लैंडिंग की।

सोलर इंपल्स के अध्यक्ष और पायलट बट्र्रांड पिकार्ड ने आबू धाबी में विमान के उतरने से पहले एक बयान में कहा, लोगों, प्राधिकरणों और सरकारों को इस समाधान का इस्तेमाल जमीनी स्तर पर शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करने के मकसद से अब हमारा यह अभियान जारी रहने वाला है।

अपने इस ऐतिहासिक मिशन के दौरान सोलर इंपल्स 2 का पड़ाव ओमान, भारत, म्यांमार, चीन, जापान, अमेरिका, स्पेन, इटली, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात में रहा। उत्तर अमेरिका के इसके पड़ाव में कैलिफोर्निया, एरिजोना, ओकलाहोमा, ओहायो, पेनसिलवेनिया और न्यूयार्क शामिल हैं।