बाढ़ पीड़ितों को गेहूं की बोरियों मिट्टी बांटने वाल अफसर निलंबित

नई दिल्ली(20 जुलाई):  गेहूं की बोरियों में मिट्टी वाले प्रकरण में मध्य प्रदेश शासन ने नागरिक आपूर्ति निगम के प्रदाय अधिकारी दिनेश चौरसिया निलंबित कर दिया है और  जिला प्रबंधक राजेंद्र यादव को शोकाज नोटिस देकर हटा दिया गया है। मध्य प्रदेश के भोपाल में बाढ़ राहत की पहली किस्त ने हंगामा खड़ा कर दिया था। पीड़ितों को गेंहू की जो बोरियां दी गईं, उन्हें खोलते ही मिट्टी निकली थी। 50 किलो गेहूं की बोरी में करीब 20 किलो मिट्टी मिली हुई थी। 

शुरुआती जांच के बाद ही कलेक्टर निशांत वरवड़े ने माना  था कि गेहूं में मिट्टी मिली है। इसके साथ ही पीड़ितों से गेहूं वापस लेकर आनन-फानन में दूसरा गेहूं देने का ऑर्डर भी दिया गया। बता दें कि पिछले हफ्ते भोपाल में बारिश से जलमग्न बस्तियों के पीड़ितों को राहत सामग्री बांटने की शुरुआत सोमवार को हुई।

इस दौरान राशन दुकान से अफसरों ने 100 बाढ़ पीड़ितों को 50-50 किलो गेहूं और पांच लीटर कैरोसिन बांटा। मंगलवार को पीड़ितों ने गेहूं की बोरियां खोलीं तो उसमें मिट्‌टी के बड़े-बड़े ढेले निकले। कुछ ने गेहूं की बिनाई कराकर मिट्‌टी का वजन कराया तो वह 20 किलोग्राम निकला।