अमेरिका में 'स्नोजिला', तो 30 साल की सबसे भीषण ठंड से कांपा चीन

नई दिल्ली (23 जनवरी): एक तरफ अमेरिका इन दिनों भयानक ठंड की चपेट में है, जिसका कारण है यहां आया हुआ भीषण बर्फीला तूफान 'स्नोजिला'। वहीं चीन में भी 30 साल की सबसे ज्यादा ठंड पड़ रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में आए हुए स्नोजिला ने राजधानी वाशिंगटन डीसी समेत देश के पूर्वी तट के ज्यादातर हिस्से को प्रभावित किया है। आशंका जताई जा रही है कि इस तूफान में रेकॉर्ड 30 इंच तक बर्फबारी हो सकती है। तूफान के कारण देश भर में कम से कम आठ लोग मारे गए हैं और 10 राज्यों में आपात स्थिति की घोषणा की गई है। दूसरी तरफ चीन में भी पिछले 30 सालों की सबसे ज्यादा ठंड पड़ रही है। राष्ट्रीय मौसम केंद्र (एनएसी) के मुताबिक, पश्चिम-उत्तर चीन, उत्तरी चीन और हुआंगहुई इलाके के अधिकतर हिस्सों में शनिवार सुबह तापमान लुढ़ककर छह डिग्री तक पहुंच गया है। 

अमेरिका में वाशिंगटन डीसी के अलावा वर्फीले तूफान से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य हैं- जॉर्जिया, उत्तरी कैरोलाइना, टेनिसी, मेरीलैंड, वर्जीनिया, पेंसलवेनिया, न्यू जर्सी, न्यू यॉर्क और कंटाकी। इन राज्यों में आपात स्थिति की घोषणा की गई है। उत्तरी अमेरिका में तेलुगू एसोसिएशन ने एक बयान में समुदाय के सदस्यों से अपील की है कि वे घरों के अंदर रहें और सुरक्षा के लिए हर एहतियात बरतें। बड़ी संख्या में मंदिरों, गुरुद्वारों और अन्य पूजाघरों ने प्रभावित लोगों को शरण देने के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं।

तूफान के रास्ते में 8.5 करोड़ तक की आबादी है, जो कि देश की कुल आबादी का एक चौथाई हिस्सा है। खबरों के अनुसार कल देर रात तक कम से कम आठ लोग तूफान के कारण मारे गए। आकलन के मुताबिक, तूफान के चलते करीब 1 लाख 20 हजार से भी ज्यादा घरों की बिजली गुल हो गई है और इलाके में कई इंच मोटी बर्फ की परत जम गई। तापमान के फ्रीजिंग प्वाइंट से भी कम होने पर लोग घरों के अंदर ही बने रहे। दो दिनों के बीच 6 हजार से अधिक उड़ाने रद्द की गई हैं। इसके अलावा 4500 से भी ज्यादा उड़ानों में देरी हुई है।