'डियर' विवाद पर स्मृति ने दिया यह भावुक जवाब

नई दिल्ली (16 जून): बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी द्वारा मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी को 'डियर' कहने पर हुए विवाद पर स्मृति ने फेसबुक पेज पर लंबा चौड़ा जवाब दिया है। स्मृति ने इस पोस्ट के जरिए उन लोगों पर निशाना साधा जो ट्विटर पर उनपर निशाना साध रहे थे।

स्मृति ईरानी ने फेसबुक पर लिखे एक भावुक पोस्ट में लिखा कि उनकी परवरिश एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुई, जहां लड़कियां हर रोज स्कूल-कॉलेज से सीधे घर आती थी। उन्होंने सिखाया जाता था कि राह चलते उन्हें कभी भी लड़कों को पलटकर जवाब नहीं देना है क्योंकि उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। लोगों को इससे फर्क नहीं पड़ता था कि लड़के, लड़कियों को कितना अपमानित करते थे। सवाल ये है कि लड़कियों को जवाब क्यों नहीं देना चाहिए? लड़कियों को चुप रहने को क्यों कहा जाता है?

स्मृति ने अपने संघर्ष और उपलब्धियों का जिक्र करते हुए लिखा कि लोग मुझे आंटी नेशनल कहिए मुझे फर्क नहीं पड़ता। मैं आलोचना का सामना करने में विश्वास करती हूं। मैं कभी भी इससे भागती नहीं। लड़की बड़ी होती है, टीवी स्टार बनती है। लेकिन जब आप आप सफलता के लिए संघर्ष कर रहे होते हैं, तब आपको सलाह दी जाती है कि पार्टी में जाओ, लोगों से घुलो-मिलो, तब काम मिलेगा।

स्मृति ने अपने राजनितिक सफर के शुरुआत के बारे में लिखा कि जब मैं राजनीति में आई तो अचानक नियम बदल गए और मुझसे कहा गया कि सामने देखकर बात करो, क्योंकि नुकसान तुम्हारा होगा। स्मृति ने उन लोगों को भी जवाब दिया जो उनपर 'अनपढ़' शिक्षा मंत्री होने का आरोप लगाते रहते हैं। उन्होंने इस पोस्ट में कम उम्र में हासिल की गई अपनी राजनीतिक सफलताओं का भी जिक्र किया।

बता दें कि बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री को 'डियर' कहकर संबोधित किया जिसके बाद दोनों के बीच ट्विटर पर शब्दयुद्ध छिड़ गया। इसके बाद लोगों ने स्मृति ईरानी पर निशाना साधते हुए कई ऐसे ट्वीट दिखाए जिसमें बीजेपी के मंत्रियों ने उन्हें 'डियर' कहकर संबोंधित किया था।