देखिए: नीतीश के राज़ में 60 दलित छात्र खुदकुशी को मजबूर

अमिताभ ओझा, पटना (3 फरवरी): हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दलित छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी के बाद देश में जमकर हो-हल्ला हुआ। सभी राजनीतिक दलों के बीच खुद को दलित हितैषी बताने की होड़ सी लग गयी। लेकिन बिहार के 60 दलित छात्र सरकार की उपेक्षा के चलते खुदकुशी करने को तैयार हैं। लेकिन नीतीश सरकार में उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है।

पूर्वी और पश्चिमी चंपारण के ये साठ छात्र जब हालात के आगे मजबूर होकर ऐसा कदम उठाने की बात कर रहे हैं, तो इनकी सुनने वाला कोई नहीं है। दरअसल, ये सभी छात्र बिहार महादलित विकास मिशन के तहत सरकारी स्कॉलरशिप पर ओडिशा के भुवनेश्वर में राजधानी इंजनीयरिंग कॉलेज में पढ़ने गए थे। 

इनका नामांकन 2014 में हुआ था और इनके खाने-पीने और रहने का खर्चा सरकार के कंधों पर था, लेकिन कुछ ही वक्त बाद सरकार इन छात्रों को भूल गयी और इन्हें स्कॉलरशिप का पैसा नहीं भेजा। 

नतीजा यह हुआ कि इन छात्रों को कॉलेज ने निकाल दिया। अब जब जिला कल्याण पदाधिकारी से इस बाबत सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी तो 2014-15 का पैसा भेजने का काम शुरू हुआ है।

देखिये न्यूज़24 की रिपोर्ट...

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=2VwXlf9UmEI[/embed]