सौतेला बाप करता था बलात्कार, बच्चियों ने दीबार पर लिख दी कहानी !

नई दिल्ली (4 फरवरी): 'हमारी प्यारी मां, हमको इस नर्क में छोड़कर क्यों चली गई? तुझे मालूम है हमारे साथ क्या हो रहा है? हमको लड़ने की शक्ति देना ताकि हम पापा को मिटा सकें।' एक घर की दीवार पर लिखी 2 मासूम बच्चियों के असहनीय दर्द की इस दास्तां पर जब लोगों की नजर पड़ी तब जाकर इन दोनों का 5 साल का नरक खत्म हुआ। मध्य प्रदेश के देवास की 2 नाबालिग बहनों के सौतेले पिता को बुधवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। दोनों बहनें 5 साल से सौतेले पिता द्वारा यौन शोषण का शिकार हो रही थीं।

उनकी जिंदगी के भयावह सच की तरफ तब लोगों का ध्यान गया जब उन्होंने मरी हुई मां को याद करते हुए अपने घर की दीवार पर अपनी बेबसी की कहानी लिख डाली। देवास की रहने वाली 12 साल की सविता और उसकी छोटी बहन 11 साल की कविता (दोनों का बदला हुआ नाम) का सौतेला पिता इन बहनों से जबरदस्ती करता था। डर के कारण ये बच्चियां 5-5 कपड़े पहनकर रहती थीं ताकि उनको उतारने के चक्कर में उन्हें बचने और लड़ने का ज्यादा से ज्यादा समय मिल जाए। बड़ी बहन घर छोड़कर भाग भी चुकी थी, लेकिन छोटी बहन का ख्याल करके वह वापस आ गई।

लोगों को यह घिनौनी खबर पढ़ने को तो मिला लेकिन यह खबर पढ़ने को नहीं मिलेगी कि इस मुजरिम को क्या सजा हुई इस देश की सबसे बड़ी बदकिस्मती यही है की मुजरिमों को सजा नहीं होती अगर वक्त पर मुजरिमों को सजा होने लगे तो इस तरह की घिनौनी घटनाएं अपने आप खत्म हो जाएंगी

इनकी मां को कैंसर था, जिस कारण कुछ वक्त पहले उनकी मौत हो गई। उसके बाद से तो पिता के अत्याचार और बढ़ गए। बच्चियों ने अपनी सौतेली दादी से शिकायत की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। मुकेश ने इन बच्चियों का स्कूल भी छुड़वा दिया था ताकि ये बाहर जाकर किसी को कुछ बता न सकें। बच्चियों के मुताबिक आरोपी उनसे कहता था कि आगे चलकर तो उनके साथ कोई जोर-जबर्दस्ती करेगा ही तो क्यों न उसे ही कर लेने दें।

हर तरफ से निराश होकर इन बच्चियों ने अपने घर के बाहर दीवार पर अपनी दुखभरी कहानी लिखनी शुरू कर दी। इस पर जब लोगों का ध्यान गया तब चाइल्ड लाइन को सूचना दी गई। इसके बाद इन बच्चियों के बयान पर पिता को छेड़छाड़ और पॉस्को ऐक्ट के तहत मामला दर्ज करके उसे अरेस्ट कर लिया गया है।