कोयला घोटाला: SC ने कहा- 'पूर्व CBI निदेशक रंजीत सिन्हा ने प्रभावित जांच की थी'

नई दिल्ली (12 जुलाई): बहु चर्चित कोयला घोटाले की जांच के लिए गठित सुप्रीम कोर्ट की समिति ने सीबीआई के पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा को प्रथम दृष्टया दोषी करार दिया है। जांच समति ने कहा है कि सिन्हा ने सीबीआई जांच को प्रभावित करने का प्रयास किया था। रंजीत सिन्हा ने जांच समिति की रिपोर्ट पर कुछ भी कहने से इंकार किया है, वहीं एटॉर्नी जनरल ने कहा है कि रंजीत सिन्हा के खिलाफ मुकदमा आगे चलाने के लिए जांच समिति की रिपोर्ट नाकाफी है।

* यूपीए शासन में हुए कोयला घोटाला में एक जांचकर्ता ने एक विशेष अदालत को बताया कि इस मामले में क्लोजर रिपोर्ट दायर करने का आदेश तत्कालीन सीबीआई प्रमुख रंजीत सिन्हा ने दिया था। 

* सुप्रीम कोर्ट की समिति ने इस प्रकरण में सिन्हा की भूमिका की जांच की है

* सीबीआई का एक जांच अधिकारी ही खुद गवाह बना

* मध्य प्रदेश आधारित कमल स्पंज स्टील एंड पॉवर लिमिटेड (केएसएसपीएल)इसमें मुख्य आरोपी है

* केएसएसपीएल ने कोयला ब्लॉक हासिल करने के लिए कथित तौर पर नेटवर्थ को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने सहित तथ्यों को गलत तरह से पेश किया

* घोटाले की जांच कर रहे अधिकारी ने कोर्ट को बताया था कि जांच अधिकारी ने अदालत को बताया कि जांच की रिपोर्ट सू अपने वरिष्ठ अधिकारी को दे दी थी

 * उसी वरिष्ठ अधिकारी ने अपने 'सक्षम प्राधिकार’ से मामले को बंद करने का आदेश दिया था

* जांच अधिकारी के इन्हीं बयानों की जांच कर रही थी सुप्रीम कोर्ट की समिति