वित्त वर्ष 2014-15 में भारत के कुल टैक्स कलेक्शन का 11 फीसदी एक व्यक्ति पर बकाया

नई दिल्ली ( 24 जनवरी ): देश में एक अज्ञात आयकर दाता पर वित्त वर्ष 2014-2015 में 21,870 रुपए का टैक्स बकाया था।  सरकार को मिलने वाले कुल इनकम टैक्स का यह करीब 11 फीसदी है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ओर से जारी किए गए आंकड़ों में यह खुलासा हुआ है। देश के करीब 3 व्यक्तिगत करदाता ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी कारोबारी 500 करोड़ रुपये घोषित की है। दो व्यक्तिगत करदाताओं ने 2014-15 में 500 करोड़ रुपये का लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन घोषित किया है। इन टैक्सपेयर्स के नाम उजागर नहीं किए गए हैं।

थिंक टैंक ऑक्सफैम इंडिया की ओर से जारी किए गए डेटा के मुताबिक देश के समृद्ध 1% लोगों के पास भारत की करीब 58 फीसदी संपदा है। यही नहीं 57 अरबपतियों के पास देश के 70 फीसदी गरीबों के बराबर संपदा है। अमेरिका की बात की जाए तो वहां 1 पर्सेंट लोगों के पास देश की 19 फीसदी आय है, जबकि वह कुल टैक्स में 38 फीसदी हिस्सेदारी रखते हैं। हालांकि भारत सरकार की ओर से ऐसे आंकड़े जारी नहीं किए गए हैं, जिससे पता चलता हो कि कितने लोगों की आय में कितनी हिस्सेदारी है और वे कितना टैक्स चुकाते हैं।

भारत में 2013-14 में 3 करोड़ 65 लाख व्यक्तिगत करदाताओं ने 16.5 लाख करोड़ रुपये की टैक्सेबल इनकम घोषित की थी। इन करदाताओं ने कुल 1.91 लाख करोड़ का टैक्स अदा किया। 2014-15 की बात करें तो इस साल 3 करोड़ 60 लाख टैक्सपेयर्स ने 9.8 लाख करोड़ की आय घोषित की थी। यह देश की कुल आय 134.2 लाख करोड़ रुपये का 7 फीसदी था। इसके अलावा 5.6 लाख करोड़ रुपये की बिजनस इनकम और अन्य स्रोतों से 2.4 लाख करोड़ रुपये की आय की घोषणा की गई।