रियो: आखिरकार हारे फेल्प्स!

नई दिल्ली(13 अगस्त): अमेरिका के स्टार स्विमर माइकल फेल्प्स को हराते हुए सिंगापुर के जोसफ स्कूलिंग ने शुक्रवार को पुरुषों की 100 मीटर बटरफ्लाई रेस के फाइनल में गोल्ड मेडल हासिल किया।

- सिंगापुर के लिए यह उसका पहला गोल्ड मेडल है। माइकल अगर वह यह रेस जीत लेते तो उनके खाते में 23वां गोल्ड मेडल जुड़ जाता, लेकिन उन्हें सिल्वर से संतोष करना पड़ा।

- रियो ओलिंपिक के बाद संन्यास ले रहे महान तैराक फेल्प्स इस रेस में अपने दो चिर-प्रतिद्वंदियों, दक्षिण अफ्रीका के चैड ले क्लॉस और हंगरी के लेज्लो से के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे। यानी पुरुषों की 100 मीटर बटरफ्लाई रेस के फाइनल में तीन खिलाड़ियों ने एक साथ सिल्वर मेडल जीता।

- आश्चर्यजनक रूप से इस रेस में स्कूलिंग ने 50.39 सेकंड का टाइम लेते हुए ओलिंपिक रेकॉर्ड कायम किया, वहीं फेल्प्स, चैड और लेज्लो ने 51.14 सेकंड का वक्त लिया। सोना जीतने के बाद स्कूलिंग ने कहा, 'यह बहुत ही आनंददायक है। मैं अब भी इस पर भरोसा नहीं कर पा रहा हूं। यह क्रेजी है।'

- अब तक कुल 27 मेडल जीत चुके फेल्प्स यह रेस जीतकर इस इवेंट में लगातार चौथी सफलता हासिल करना चाहते थे, लेकिन इस बार उन्हें सिल्वर मेडल से ही संतोष करना पड़ा। उनकी मेडल की लिस्ट में अब 22 गोल्ड, तीन सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल हैं। हालांकि, संन्यास लेने से पहले रियो में अभी उन्हें शनिवार को 4x100 मेडली रिले में भाग लेना है।

- स्कूलिंग के जीतने के बाद फेल्प्स ने कहा, 'मुझे याद नहीं है कि मैंने कभी टाइ किया हो और तीन लोगों का एकसाथ टाइ करना तो गजब ही है। मैंने अपना नाम दूसरे नंबर पर देखा। इसके बाद मैंने एक बार फिर जब ऊपर देखा तो पाया कि मैंने लेज्लो और चैड के साथ टाइ किया है। हम तीनों ही सेकंड आए हैं और यह बहुत ही कूल है। यह बहुत ही स्पेशल है और मैंने अपनी आखिरी एकल रेस अच्छी तरह खत्म की। इससे शिकायत नहीं कर सकता।'