VIDEO : पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 12 घंटे में ऐसे मार गिराए सिमी के 8 खूंखार आतंकी

नई दिल्ली ( 31 अक्टूबर ) : भोपाल सेन्ट्रल जेल से फरार सिमी के सभी 8 आतंकियों को पुलिस ने एक मुठभेड़ में मार गिराया है। भोपाल से 12 किमी दूर बाहरी इलाके इंटखेड़ी गांव के पास पुलिस के जवानों ने सभी आतंकवादियों ढेर कर दिया। 

आतंकियों के इस एनकाउंटर के पीछे एटीएस, भोपाल पुलिस और आईबी का साझा ऑपरेशन था। पुलिस ने इंटखेड़ी गांव के पास इन आतंकवादियों को घेरकर मारा। पुलिस को गांवों वालों से इन आतंकवादियों के बारे में जानकारी मिली थी। 

ये सभी आतंकी आज (सोमवार) तड़के मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सेन्ट्रल जेल से फरार हो गए थे। ये सभी आतंकी आरोपी ठहराए जा चुके थे और इनका ट्रायल चल रहा था। आतंकियों ने जेल के एक गार्ड की हत्या कर इस घटना को अंजाम दिया था। मारे गए हेड कॉन्स्टेबल की पहचान रमाशंकर के रूप में हुई है। एक और गार्ड के घायल होने की खबर है।

इसमें से कुछ आतंकी वे भी थे जो 2013 में खंडवा जेल से भागे थे। घटना रात करीब 3 बजे की है। आतंकियों पर देशद्रोह और अन्य कई संगीन मामले दर्ज है। फरार होने वाले आतंकियों में शेख मुजीब, माजिद खालिद, अकील खिलची, जाकिर, सलीख महबूब और अमजद शामिल था। इन आतंकियों का सुराग देने पर 5-5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था।

दिवाली की रात जेल से फरार होने से पहले आतंकियों ने हेड कांस्टेबल की गला रेतकर हत्या कर दी थी और फिर दीवार फांदकर फरार हो गए थे। जानकारी के मुताबिक, तड़के तीन से चार बजे के बीच जेल के बी ब्लॉक में बंद सिमी के आठ आतंकियों ने बैरक तोड़ने के बाद हेड कांस्टेबल रमाशंकर की हत्या कर दी। इसके बाद जेल में ओढ़ने के काम आने वाली चादर की मदद से आतंकी दीवार फांदकर फरार हो गए।

- आतंकी जैसे ही जेल से भागे, उसके तुरंत बाद पूरे राज्य में अलर्ट हो गया था। पूरे शहर की घेराबंदी थी। - इसी बीच पुलिस को खबर मिली की कि आतंकी भोपाल से 10 किमी दूर खेजड़ी गांव में छिपे हुए हैं। गांव वालों की ओर से ये इनपुट मिला था। - फोर्स जब मौके पर पहुंची तो आतंकी एक पहाड़ पर छिपे हुए थे। पुलिस ने उन्हें सरेंडर करने को कहा। आतंकियों के ऐसा करने से इनकार करने पर पुलिस ने एनकाउंटर में सभी को मार गिराया। - मौके पर पहुंचकर उनसे सरेंडर करने के लिए कहा। इनकार करने सभी आठों आतंकियों का एनकाउंटर कर दिया गया।

क्या कहा आईजी ने? - भोपाल आईजी योगेश चौधरी ने बताया, 'ये एक गंभीर मामला था। जेल से भागने के बाद हम खासी सर्चिंग कर रहे थे। ऑपरेशन में एसटीएफ, सीटीसी और जिला पुलिस शामिल थी।' - आतंकी अचारपुरा के पास एक पहाड़ पर छिपे थे। उनके पास हथियार थे। आतंकियों ने क्रॉस फायरिंग भी की। लेकिन ज्वाइंट ऑपरेशन में उन्हें मार गिराया गया।' किसी परिचित के पास जा रहे थे आतंकी - खबरों के मुताबिक, आतंकी भोपल से निकलने के बाद किसी परिचित के घर छिपे थे। - इसी दौरान गांव वालों ने इनके बारे में इनपुट दी। - जिस गांव में आतंकी छिपे थे, उसकी आबादी 5 हजार है। - आतंकी जिस परिचित के यहां छिपे थे, पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी। तुरंत हरकत में आने से पुलिस को मिली कामयाबी - आतंकियों के फरार होते ही पूरा पुलिस अमला हरकत में आ गया था। रात में ही पुलिस के आला अफसर जेल में पहुंच गए।

 

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=-0bH3t9PIG8[/embed]