देश में यहां इकट्ठे हो रहे हैं विदेशी संत, इनके एक हाथ में माला दूसरे में टैबलेट

नई दिल्ली (10 अप्रैल): मध्य प्रदेश के उज्जैन में दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक मेला (सिंहस्थ) 22 अप्रैल से शुरू होने वाला है। इस मेले में देश के ही नहीं विदेशों के संत भी बड़ी संख्या में भारतीय संस्कृति में रमे नजर आएंगे।

इनमें से महायोगी पायलट बाबा के कैम्प में दुनिया भर से उनके शिष्य आने शुरू हो गए हैं। इस सभी में रूस, यूरोप आदि देशों के भी कई युवा संतों की पलटन शामिल है। इन सभी की खासियत है कि ये सभी आधुनिक सुविधाओं के साथ यहां आए हैं। इनके एक हाथ में जाप करने वाली माला है तो दूसरे हाथ में टैबलेट।

भारत में इस तरह का दृश्य काफी आश्चर्य और स्वागतयोग्य माना जा रहा है। आखिर, पूर्व व पश्चिमी सभ्यताओं का मिला-जुला ये स्वरूप सिंहस्थ के अलावा और कहीं देखने को कम ही मिलता है। हाल ही में नई दिल्ली में वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल में भी कुछ इसी तरह के सांस्कृतिक रंग देखने को मिले थे।