Blog single photo

पाक से आजादी के लिए ह्यूस्टन में हजारों सिंधी, बलूच और पश्तूनों की भीड़

पूरे अमेरिका से बलोच अमेरिकी, सिंधी अमेरिकी और पख्तून अमेरिकी समुदाय के हजारों लोग यहां पहुंचे हैं। ये सभी एनआरजी स्टेडियम के सामने रविवार को पोस्टर और बैनर लेकर खड़े होंगे

न्यूज 24 ब्यूरो, ह्यूस्टन (22 सितंबर): कश्मीर को लेकर प्रॉपेगैंडा फैला रहे पाकिस्तान की पोल अमेरिका में भी खुल रही है। पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के साझा कार्यक्रम से पहले बड़ी संख्या में सिंधी, बलोच और पख्तून समूह के प्रतिनिधि ह्यूस्टन में एकत्रित हो चुके हैं। पाकिस्तान में सेना और आईएसआई की बर्बरता को बयां करते हुए उन्होंने आजादी की मांग दोहराई है। पूरे अमेरिका से बलोच अमेरिकी, सिंधी अमेरिकी और पख्तून अमेरिकी समुदाय के हजारों लोग यहां पहुंचे हैं। ये सभी एनआरजी स्टेडियम के सामने रविवार को पोस्टर और बैनर लेकर खड़े होंगे। ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश करेंगे।

अमेरिका में अपनी तरह के इस पहले प्रदर्शन में तीनों समुदाय के लोग एक साथ पाकिस्तान से आजादी के लिए भारत और अमेरिका के नेताओं से मदद की गुहार लगाएंगे। समूहों के सदस्यों ने शनिवार को आरोप लगाया कि पाकिस्तान सरकार उनके समुदाय के लोगों के मानवाधिकारों का बड़े पैमाने पर हनन कर रही है।

अमेरिका में बलोच नैशनल मूवमेंट के प्रतिनिधि नबी बक्श बलोच ने कहा, 'हम पाकिस्तान से आजादी की मांग कर रहे हैं। भारत और अमेरिका को हमारी मदद करनी चाहिए है ठीक वैसे ही जैसे 1971 में भारत ने बांग्लादेश के लोगों की मदद की थी।' उन्होंने कहा, 'हम यहां प्रधानमंत्री मोदी और ट्रंप से हमारे उद्देश्यों के वास्ते समर्थन का अनुरोध करने के लिए हैं। पाकिस्तान सरकार बड़े पैमाने पर बलोच लोगों के मानवाधिकार का हनन कर रही है।'

सैकड़ों अमेरिकी सिंधी ह्यूस्टन पहुंच चुके हैं। वे एनआरजी स्टेडियम के सामने एकत्र होने की योजना बना रहे हैं जहां पर मोदी का 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम होना है। उन्हें उम्मीद है कि आजादी की मांग करने वाले पोस्टर-बैनर पर मोदी और ट्रंप का ध्यान जाएगा।

सिंधी एक्टिविस्ट जफर ने कहा, 'यहां मोदी-मोदी हो रहा है। यहां बहुत भीड़ जुटी है। हम सिंधी लोग एक संदेश के साथ ह्यूस्टन आए हैं। हम हम पोस्टर के जरिए मोदी जी को बताएंगे कि हम आजादी चाहते हैं। हमारा नरसंहार हो रहा है। हमारे मानवाधिकारों का हनन हो रहा है। 1971 में जैसे भारत ने बांग्लादेश की मदद की थी आजादी में उसी तरह सिंध को भी आजाद कराया जाए। हम उम्मीद करते हैं कि मोदी जी और राष्ट्रपति ट्रंप हमारी मदद करेंगे।'

उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान एक फासीवादी और आतंकी देश है, जिसे आईएसआई और सेना के द्वारा चलाया जाता है। वहां कोई लोकतंत्र नहीं है। वहां लोगों को मारा जाता है और उनके अंगों को बेचा जाता है। अल्पसंख्यकों को पूजा का अधिकार नहीं है। वहां मंदिर और चर्च जलाए जा रहे हैं। लोगों को हर रोज मारा जा रहा है, हमारी नस्ल को खत्म किया जा रहा है। हम और ज्यादा बर्दाश्त नहीं करना चाहते हैं। भारत, अमेरिका और जी-7 देश पाकिस्तान को होने वाले हर फंडिंग को रोकें और वहां की आर्मी व आईएसआई को आतंकवादी घोषित किया जाए।

Tags :

NEXT STORY
Top