बाढ़-भूस्खलन के श्रीलंका बेहाल, राहत सामग्री लेकर कोलंबो पहुंचा INS शार्दुल

कोलंबो (28 मई): श्रीलंका में बाढ़ और भूस्खलन से कई इलाकों में हाल बेहद ही खराब है। इस प्राकृतिक आपदा में मरने वालों की तादाद 110 के करीब पहुंच चुकी है जबकि अब भी 100 से ज्यादा लोग लापता बताए जा रहे हैं। करीब 5 लाख लोग विस्थापित हुए हैं।  इसे 1970 के दशक के बाद आई सबसे बड़ी प्राकृतिक आपदा बताया जा रहा है। यहां 14 से ज्यादा जिले सबसे ज्यादा प्रभावित है।

श्रीलंका की अपील पर भारत बाढ़ प्रभावित इलाके में हर मुमकिन मदद कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर संभव सहायता का निर्देश दिया है। भारत अपील के बाद सहायता भेजने वाला पहला देश है। श्रीलंका की नौसेना और अन्य श्रीलंकाई प्राधिकारों के साथ मिलकर अब भारतीय बचावकर्मियों की प्रभावित क्षेत्रों में तैनाती की जा रही है। मोदी ने बाढ़ में लोगों की मौत पर शोक जताते हुए कहा कि जरूरत के इस वक्त में भारत अपने श्रीलंकाई भाई-बहनों के साथ है।

राहत सामग्री एवं बचावकर्मियों को लेकर भारतीय नौसेना का पहला जहाज INS किर्च शनिवार सुबह कोलंबो बंदरगाह पहुंचा। वहीं आज INS शार्दुल कोलंबो बंदरगाह पहुंचा। वहीं श्रीलंका के विदेश मंत्री रवि करणानायके ने भारत के इस मदद के लिए आभार जताया है। उन्होंने कहा कि राहत सामग्री भेजने का भारत का कदम यह भारत-श्रीलंका संबंधों को दिखाता है, जो अपने उत्कृष्ट स्तर पर हैं।