दिल्ली में पोस्टर लगे देखे गए- 'कन्हैया को गोली मारने वाले को 11 लाख रुपए इनाम'

नई दिल्ली (5 मार्च) : देश की राजधानी के कई इलाकों में ऐसे पोस्टर देखे गए हैं जिनमें कहा गया है कि जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गोली मारने वाले को 11 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक उन्होंने इन पोस्टरों का संज्ञान लेते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है। जिन्होंने ये पोस्टर लगाए हैं उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी। जल्दी ही मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

बता दें कि देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किए गए कन्हैया की दो दिन पहले ही अंतरिम ज़मानत पर रिहाई हुई है।

छोटे आकार के इन पोस्टरों पर पूर्वांचल सेना और इसके अध्यक्ष आदर्श शर्मा का नाम दिया गया है। साथ ही दावा किया गया है कि ये संगठन उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के लिए काम करता है।

पोस्टर में 'वंदेमातरम', 'भारत माता की जय' और 'जय पूर्वांचल' के बाद लिखा गया है- "जेएनयू छात्र संघ प्रेसिडेंट और देशद्रोही कन्हैया को गोली मारने वाले को पूर्वांचल सेना की ओर से 11 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा।"  

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक आदर्श शर्मा ने शनिवार को कहा, "हम न्यायपालिका में विश्वास रखते है लेकिन त्वरित न्याय देना चाहते हैं। हम देशद्रोही की मौत चाहते हैं। उसने भारत माता का अपमान किया है और भारत विरोधी नारे लगाए हैं। हमारा कोर्ट में विश्वास है लेकिन वहां फैसला आने में लंबा समय लगता है। हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि जल्दी फैसला हो इसलिए उसे जो कोई भी मारेगा उसे 11 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा।'

शर्मा ने दिल्ली में पोस्टर लगवाने की बात को स्वीकार किया। शर्मा ने कहा कि बिहार में उसके घर से कन्हैया का घर सिर्फ 10 किलोमीटर की दूरी पर है। साथ ही कहा- "हमारी ज़मीन इस तरह के देश विरोधियों को पैदा नहीं करती। इसलिए हमने ये इनाम रखने का फैसला किया।"

वहीं, दिल्ली पुलिस ने जेएनयू के अधिकारियों से कहा है कि वे कन्हैया के कैम्पस से कभी भी बाहर जाने पर पुलिस को इसकी सूचना दें। डीसीपी (साउथ) प्रेमनाथ की ओर से लिखी गई चिट्ठी में कहा गया है कि "कन्हैया कुमार के कैम्पस से बाहर आवाजाही और यात्राओं के बारे में वसंत कुंज (नॉर्थ) के एसएचओ को सूचना दे। ये भी बताया जाया कि यात्रा का उद्देश्य क्या है और किस माध्यम से कन्हैया यात्रा कर रहे हैं ताकि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए आवश्यक और ऐहतियाती कदम उठाए जा सकें।"