पार्टी में चापलूस भरे हैं, मंत्री पद जाने से नहीं पड़ता कोई फर्क: शिवपाल

नई दिल्ली ( 27 अक्टूबर ) : समाजवादी पार्टी में जारी घमासान के बीच दिल्‍ली पहुंचे शिवपाल यादव ने शिवपाल यादव ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि उन्हें मंत्रीपद से कोई लेना-देना नहीं है, उन्होंने कहा कि वे नेताजी के लिए काम करते हैं और करते रहेंगे.

उन्होंने आगे अखिलेश को किसी बहकावे में नहीं आना चाहिए। उन्‍हें अपने पिता का सम्मान करना चाहिए। अब मैं मंत्री नहीं हूं, इसलिए मैं अखिलेश के अधीन नहीं हूं। नेताजी का जो भी आदेश होगा, उसका पालन करेंगे। वे (शिवपाल) किसी भी तरह की कुर्बानी देने को तैयार हैं।

बता दें, ऐसा कहा जा रहा है कि शिवपाल, अजित सिंह की पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर उनसे मिलने दिल्‍ली पहुंचे थे।

अखिलेश को नसीहत दी ...

शिवपाल ने आगे कहा, अखिलेश समझ नहीं रहे हैं। उन्हें लोगों की बातों में नहीं आना चाहिए। अखिलेश को अपने पिता की बातें माननी चाहिए। आखिर उन्होंने ही उनको सीएम बनाया है। परिवार और पार्टी में जारी विवाद पर कहा कि परिवार एक है, पार्टी एक है।

रामगोपाल यादव की ओर से इशारा करते हुए कहा कि महागठबंधन नहीं बनने देने के लिए साजिश की गई। तांत्रिकों की शरण लेने के बारे में उन्‍होंने कहा कि हम लोग इन सब चीजों में विश्वास नहीं करते हैं। जो लोग ऐसे आरोप लगा रहे हैं, वही ऐसा करते होंगे।

गठबंधन पर ये बोले शिवपाल हम ऐसा गठबंधन बनाना चाहते हैं, जिससे सांप्रदायिक ताकतों को हराया जा सके। हम ऐसे लोगों को साथ लेकर चुनाव में उतरना चाहते हैं, जो समाजवादी हों, लोहियावादी हों। यूपी में हमारी सरकार दोबारा बनेगी।

अखिलेश बुलाएंगे तो रथयात्रा में जाएंगे... शिवपाल यादव ने कहा कि अगर अखिलेश यादव उन्हें 3 नवंबर से होने वाले चुनावी कैंपेन में मंच पर बुलाएंगे तो जरुर जाएंगे।  गौरतलब है कि अखिलेश 3 नवंबर से यूपी विधानसभा के चुनावी कैंपेन की शुरुआत रथयात्रा के साथ करने जा रहे हैं।