पीएम मोदी ने सस्ती 'उड़ान' सेवा का शिमला से किया शुभारंभ, बोले- हवाई जहाज में हवाई चप्पल वाले भी दिखें

नई दिल्ली ( 27 अप्रैल ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिमला में आज बहुप्रतीक्षित 'उड़ान स्कीम के तहत शिमला-दिल्ली मार्ग पर पहली उड़ान को हरी झंडी दिखाई। बता दें कि यह योजना पूरी तरह से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना (आरसीएस) पर केंद्रित है और वैश्विक रूप से अपनी तरह की पहली योजना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि मेरी चाहत है कि हवाई जहाज में हवाई चप्पल वाले भी दिखें। आम आदमी के लिए सस्ती उड़ान सेवा का यही लक्ष्य होना चाहिए। पीएम मोदी गुरुवार सुबह आम आदमी के लिए सस्ती उड़ान सेवा को हरी झंडी दिखाने के बाद शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि देश की आजादी के बाद पहली बार देश में एविएशन पॉलिसी लाने का हमें सौभाग्य मिला है। पीएम मोदी ने कहा कि देश के मध्यमवर्गी लोगों को अगर अवसर मिले तो वो देश की तस्वीर और तकदीर दोनों बदल सकते हैं।

उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) देश के छोटे व मझोले कस्बों को बड़े नगरों तथा परस्पर किफायती हवाई यातायात सुविधा से जोड़ने की स्कीम है। इसके तहत 500 किमी की विमान यात्रा के लिए 2500 रुपये का किराया वसूला जाएगा। इसके तहत फिक्स विंग विमानों के मामले में यात्रा की अवधि अधिकतम एक घंटे तथा हेलीकॉप्टर के मामले में आधा घंटे मानी गई है।

उड़ान' की उड़ानें देश के 70 हवाई अड्डों से होंगी। इनमें 27 व्यस्त, 12 कम उपयोग में आने वाले तथा 31 अप्रयुक्त हवाई अड्डे शामिल हैं। इसके लिए विभिन्न नई, पुरानी एयरलाइनों की तरफ से कुल 27 प्रस्ताव सरकार को प्राप्त हुए हैं। इनमें 17 एयरपोर्ट उत्तर, 24 पश्चिम, 11 दक्षिण, 12 पूर्व, 6 पूर्वोत्तर भारत तथा 2 केंद्र शासित प्रदेशों में हैं। इससे 22 राज्य व दो केंद्रशासित प्रदेश सस्ती उड़ानों से जुड़ जाएंगे। 16 प्रस्ताव एक-एक रूट पर उड़ान भरने से संबंधित हैं।