नॉकआउट मैच से पहले भारत की जीत की गवाही देते हैं ये आंकड़े

नई दिल्ली (10 जून): टीम इंडिया के सामने सेमीफाइनल में पहुंचने की चुनौती है और सामने खड़ी है द. अफ्रीका की टीम। द. अफ्रीका के खिलाफ ना सिर्फ कप्तान कोहली का विराट गेम प्लान तैयार है बल्कि टीम इंडिया का गब्बर एक बार फिर से अपनी मूंछ पर तांव दे रहे हैं। दरअसल शिखर धवन विराट के वो बल्लेबाज हैं जो आईसीसी के टूर्नामेंट में द. अफ्रीकी टीम के लिए काल साबित होते हैं।

साल 2013 चैपियंस ट्रॉफी में धवन ने 114 रनों की पारी खेल कर अफ्रीका की हार तय कर दी थी। 2015 वर्ल्ड कप में एक बार फिर शिखर धवन ने द. अफ्रीका के खिलाफ 137 रनों की पारी खेल कर जीत टीम इंडिया के नाम कर दी थी यानि कि बड़े मैच में शिखर धवन द. अफ्रीका के खिलाफ जीत की गारंटी देते हैं। नॉकआउट मैचों में आंकड़े भी विराट की जीत की गवाही दे रहा है। 2010 के बाद 11 नॉक आउट मुकाबले में टीम इंडिया ने 8 में जीत हासिल की है और सिर्फ 3 में हार का सामना करना पड़ा है।

दूसरी तरफ 2010 के बाद नॉकआउट मैचों में द. अफ्रीका ने 5 में से 2 में जीत हासिल की है। यानि कि पिछले 7 साल में नॉक आउट मुकाबलों में टीम इंडिया ने 72 फीसदी मैच अपने नाम की है जबकि द. अफ्रीका के नाम 40 फीसदी जीत रही है। विराट की अगुवाई में टीम इंडिया ना सिर्फ जीत के लिए मैदान पर कदम रखेगी बल्कि एक बार फिर द. अफ्रीका रौंदने के इरादे से टीम इंडिया करारा वार करेगी। इस महाजंग में बल्ले से जहां शिखर धवन अगुवाई करते हुए नजर आ सकते हैं। वहीं गेंद से आर अश्विन टीम इंडिया के सेनापति के रोल में नजर आएंगे।