शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने पेश किया महिलाओं को तलाक के हक वाला निकाहनामा

नई दिल्ली (9 सितंबर): तीन तलाक को लेकर देश में छिड़ी बहस के बीच ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने  मॉडर्न निकाहनामा पेश किया। इसमें महिलाओं को समान अधिकार के अलावा पत्नी को भी तलाक देने का हक दिया गया है।

- मौलाना यासूब अब्बास ने मॉडर्न निकाहनामा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष कल्बे सादिक को सौंपा है।

- कल्बे सादिक ने इसे मंजूरी देते हुए बोर्ड के अन्य सदस्यों से बातचीत कर लागू कराने का भरोसा दिया है।  

- देश में ज्यादातर मुस्लिम आबादी सुन्नी मुस्लिमों की है।

- सुन्नी मुस्लिमों की संस्था ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट  कह चुका है कि सामाजिक सुधार के नाम पर पर्सनल लॉ को बदला नहीं जा सकता।

- महिला ऐक्टिविस्टों ने तीन तलाक को असंवैधानिक करार देने की मांग की है।

- पिछले दिनों कुछ मुस्लिम महिला संगठनों ने पर्सनल लॉ बोर्ड के बारे में कहा था कि इसका रुख इस्लाम और महिला विरोधी है।

- कई महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने तीन तलाक और बहुविवाह जैसी रवायतों पर रोक लगाने की मांग की थी।

- इस मामले को सुप्रीम कोर्ट ने खुद ही संज्ञान में लेते हुए तीन तलाक, बहुविवाह को गैरकानूनी बताया है