''बाबर के नाम पर अयोध्या में नहीं बनेगी मस्जिद, वो लूटेरा था''


नई दिल्ली (21 अगस्त): अयोध्या विवाद पर एक बार फिर शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी का बड़ा बयान सामने आया है। रिजवी ने कहा है कि विवादित जगह पर नमाज नहीं हो सकती।

इसी के साथ रिजवी ने कहा कि वक्फ बोर्ड ने फैसला किया है कि अगर अलग मस्जिद बनाने की बात होगी तो मस्जिद का नाम बाबर और ना ही उसके सेनापति मीर बाकी के नाम पर नहीं होगा, क्योंकि बाबर और मीर बाकी लुटेरे थे। यह दोनों भारत को लूटने आए। खुद तुलसीदास ने लिखा है कि मीर बाकी ने हिंदुओं का क़त्ल किया था और मस्जिद बनवाई थी।

रिजवी ने कहा कि ये विवाद 1528 में जन्म लिया। पुरातत्व विभाग भी कह चुका है कि वहां मंदिर के अवशेष मिले हैं। अगर ऐसा सही है कि वहां मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाई गई तो वह जगह इबादत के लायक ही नहीं है। उन्होंने कहा कि विवाद से मुसलमानों का नुकसान होगा, खून खराबा होगा। शिया वक्फ बोर्ड ने फैसला किया है कि नई मस्जिद का नाम मस्जिदे अमन नाम रखा जाएगा, जो मुल्ला-मौलवी इसका विरोध कर रहे है, वो फंडेड मौलवी मुल्ला है।