कॉलेज में प्‍यार, बस में इजहार...कुछ ऐसी थी शीला दीक्षित की निजी जिंदगी

Sheila Dixit

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जुलाई): दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और दिल्ली की तीन बार की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का शनिवार की शाम को 3:55 मिनट पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वो 81 साल की थीं। शीला दीक्षित की मौत के बाद अब दिल्ली की राजनीति में उनकी भरपाई करना मुश्किल है। ये उनके अंदर नेतृत्व करने की क्षमता का ही कमाल था कि वो लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। 

Sheila Dixit

शीला दीक्षित का राजनीतिक सफर शानदार रहा और उन्होंने कांग्रेस पार्टी के अंदर बेहद अहम भूमिका निभाई। उन्होंने दिल्ली और केंद्र की सत्ता में भी योगदान दिया। राजनीतिक जीवन के अलावा शीला दीक्षित अपने निजी जीवन को लेकर भी तब सुर्खियों में आई थीं जब उन्होंने अपनी किताब  'सिटीजन दिल्ली: माय टाइम्स, माय लाइफ' में निजी जिंदगी के किस्सों का जिक्र किया था।

Sheila Dixit

उन्होंने किताब अपने जीवन के बारे में खुलकर लिखा था। किताब में उन्होंने बताया था कि उनके पति विनोद दीक्षित ने उन्हें एक बस में प्रपोज किया था और दोनों को एक दूसरे का जीवनसाथी बनने के लिए 2 साल का इंतजार भी करना पड़ा था। जिस समय विनोद दीक्षित से उनकी मुलाकात हुई तब शीला प्राचीन भारतीय इतिहास का अध्ययन कर रही थीं। शीला अपनी किताब में लिखती हैं कि विनोद काफी अलग से थे और उनकी धारणा भी विनोद को लेकर अलग थी। शीला दीक्षित के अनुसार विनोद एक अच्छे क्रिकेटर थे। जब दोनों के दोस्तों के बीच प्रेम को लेकर विवाद हुआ था तो शीला और विनोद ने उसे सुलझाने में मदद की थी और इसी बहाने दोनों एक दूसरे के करीब आ गए थे।

Sheila Dixit

शीला दीक्षित ने विनोद के व्यवहार और उनकी सुंदरता के बारे में बताते हुए कहा था कि वह लंबे, सुंदर और सडौल शरीर के साथ ही हंसमुख अंदाज के थे, और शीला अपने मन कि बात खुलकर नहीं कर पाती थी। एक बार अपनी दिल की बात का इज़हार करने के लिए शीला दीक्षित ने विनोद के साथ घंटे भर डीटीसी बस में सफर किया था। शीला दीक्षित ने अपनी किताब में इस बात का भी खुलासा किया कि विनोद ने उन्हें शादी का प्रस्ताव भी बस में दिया जब वो दोनों फाइनल ईयर का एग्जाम दे रहे थे।

Sheila Dixit

तब चांदनी चौक के बस नम्बर 10 में विनोद ने शिला से कहा कि वह अपनी मां को बताने जा रहे हैं कि उन्होंने अपनी शादी के लिए लड़की चुन ली है, शीला ने इस बात पर विनोद से पूछा की क्या उसने उस लड़की के दिल की बात जानने कि कोशिश कि तब विनोद ने इसका जवाब दिया नहीं, मगर वो लड़की मेरे आगे वाली सीट पर बैठी है। कुछ समय बाद ही विनोद ने अपने घर में सब बता दिया। लेकिन दोनों को अपनी शादी को लेकर संदेह था क्योंकि विनोद अभी छात्र थे ऐसे में उनकी शादी कैसे चलेगी। 

Sheila Dixit

वहीं शीला दीक्षित ने राजनीतिक जीवन में मुख्यमंत्री रहते हुए दिल्ली को एक नई पहचान दी। फ्लाईओवर से लेकर मेट्रो, दिल्ली की हरियाली, स्वास्थ्य और शिक्षा ऐसी कई पहल शीला दीक्षित ने की जिसको आज भी वो गर्व से गिनाती है। लेकिन शीला दीक्षित के दामन पर कॉमनवेल्थ गेम में हुए भ्रष्टाचार के आरोपों का दाग भी लगा, लेकिन ये शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ही था जो वो हर आरोपों के सामने बहादुरी से खड़ी रही। वह 2014 में केरल की राज्यपाल भी रहीं। एक दौर ऐसा भी आया जब अपने तमाम उपलब्धियों के बावजूद शीला दीक्षित अन्ना आंदोलन और केजरीवाल के भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना नहीं कर पाई और सत्ता गंवा बैठी।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...