बांग्लादेश में 10 आतंकियों को सजा-ए-मौत, शेख हसीना की हत्या की साजिश का आरोप

ढाका (21 अगस्त): बांग्लादेश में 10 आतंकियों को मौत की सजा और 9 को 20 साल की कैद की सजा सुनाई गई है। ये सभी प्रतिबंधित संगठन हरकतुल जेहाद-ए-इस्लामी बांग्लादेश के आतंकी हैं। इन सभी पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की हत्या की साजिश और विफल कोशिस का आरोप है। आरोप है कि इन लोगों ने साल 2000 में गोपालगंज में हसीना के पुश्तैनी गांव के एक मैदान में अति-शक्तिशाली विस्फोटक डिवाइस का इस्तेमाल कर हसीना की हत्या की साजिश रची थी। हसीना वहां एक जनसभा को संबोधित करने वाली थीं।

आतंकियों ने हसीना की हत्या के प्रयास के तहत 76 किलोग्राम के बम प्लांट किए थे। सुरक्षा अधिकारियों ने जनसभा से पहले बम का पता लगा लिया और इस साजिश को विफल कर दिया। जांच के बाद पता चला कि हूजी का सरगना मुफ्ती हन्नान इस साजिश का मास्टरमाइंड था। हन्नान को बांग्लादेशी मूल के तत्कालीन ब्रिटिश उच्चायुक्त की हत्या के प्रयास के मामले में इस साल की शुरुआत में फांसी दे दी गई थी।