विपक्ष की महारैली में मोदी सरकार पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा, तेजस्वी को बताया बिहार का भविष्य

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 जनवरी):  कोलकाता में ममता बनर्जी के नेतृत्व में 22 विपक्षी दलों की महारैली पर बीजेपी ने पलटवार किया है। बीजेपी ने विपक्ष की इस एकजुटता को सिद्धांतविहीन लोगों का जमघट करार दिया। इसके साथ ही महारैली में शिरकत करने को लेकर पार्टी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा पर कार्रवाई के संकेत भी दिए।

ममता बनर्जी के मेगा रैली में शत्रुघ्न सिन्हा शामिल हुए और पुराने बागी तेवरों के साथ बीजेपी पर जमकर तंज चलाए। सिन्हा ने पार्टी में होने की बात करते हुए कहा कि वह भारत की जनता के हैं फिर भारतीय जनता पार्टी के। उन्होंने एक बार फिर फिल्मी अंदाज में कहा कि यहां जो दृश्य दिख रहा है उसे देखकर क्या सीन है...शानदार भी कहा। नोटबंदी के फैसले को भी उन्होंने मनमाना करार देते हुए कहा कि यह पार्टी का फैसला नहीं था। 

राहुल गांधी की तर्ज पर उन्होंने कहा कि जब तक पीएम जवाब नहीं देंगे तब तक चौकीदार चोर है सुनते रहना पड़ेगा। आरजेडी में शामिल होने की खबरों के बीच सिन्हा ने तेजस्वी यादव को लायक पिता का लायक पुत्र और बिहार का भविष्य करार दिया।  

फिल्म स्टार से नेता बने शत्रुघ्न ने भाषण की शुरुआत बंगला में बोलकर की। उन्होंने कहा, 'इस क्षण तक मैं पार्टी का हूं, लेकिन सबसे पहले जनता का हूं। आज यहां पर जो अपार जनसमूह इकट्ठा हुआ है और जो मंच पर मौजूद नेतागण हैं सबकी एक ही मांग है परिवर्तन। देश अब परिवर्तन का मन बना चुका है और परिवर्तन होकर रहेगा।'   

नोटबंदी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह पार्टी का फैसला होता तो लालकृष्ण आडवाणी को, मुरली मनोहर जोशी को पता होता। उन्होंने कहा, 'यह यकीनन पार्टी का फैसला नहीं था। एक रोज रातोंरात नोटबंदी का फैसला ले लिया गया जिसने देशवासियों को लाइन में खड़ा कर दिया। अच्छी नीयत से हमारी माताओं-बहनों ने जो पैसा जमा किया था, उसे ही लौटाने के लिए खड़ा होना पड़ा।'जीएसटी पर भी सिन्हा ने निशाना साधा और 3 राज्यों में मिली कांग्रेस की सफलता के लिए राहुल गांधी की तारीफ की। उन्होंने कहा, 'नोटबंदी के फैसले से हम उबर भी नहीं पाए थे कि जैसा राहुल गांधी जी ने कहा है गब्बर सिंह टैक्स लगा दिया। यह नीम पर करेला जैसा मामला है।' सिन्हा ने किसानों की मौत पर भी सरकार की नीयत पर सवाल उठाए।