'मैं सिर्फ अल्लाह के सामने सिर झुकाता हूं'

नई दिल्ली(23 अप्रैल): पाकिस्तान के प्रधानमंत्री और और सेना प्रमुख के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। पाक पीएम नवाज शरीफ ने सेना के दखल को चुनौती देते हुए कहा कि वह सिर्फ अल्लाह और अवाम के सामने सिर झुकाते हैं।  

शरीफ ने कहा कि मेरी जवाबदेही सिर्फ अल्लाह और आवाम के प्रति बनती है। उन्होंने यह भी कहा कि पनामा पेपर्स लीक में अपने और परिवार के सदस्यों के नाम आने की अफवाह से मैं आहत हूं। इस मामले में किसी भी जांच के लिए पूरी तरह से तैयार हूं। पाक सेना प्रमुख राहील शरीफ द्वारा छह वरिष्ठ अधिकारियों को भ्रष्टाचार के आरोप में निकालने के बाद शरीफ ने नैशनल टीवी के जरिए अपनी सफाई दी। 

आर्मी चीफ ने अधिकारियों को बर्खास्त करते हुए कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई भ्रष्टाचार के रहते नहीं जीती जा सकती। पाकिस्तानी  पीएम ने आर्मी चीफ द्वारा छह अधिकारियों को निकालने के ठीक अगले ही दिन नैशनल टीवी के जरिए जनता को संबोधित किया। आर्मी चीफ की कार्रवाई के बाद नवाज शरीफ पर दबाव था। 

जनरल राहील शरीफ ने क्या कहा था

जनरल राहील शरीफ ने अधिकारियों को बर्खास्त करने के बाद कहा था, 'आतंक के खिलाफ जारी हमारी जंग भ्रष्टाचार के रहते कभी जीती नहीं जा सकती है। इसलिए भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाने के खातिर हम सबको अपनी जवाबदेही तय करनी ही होगी।' जनरल शरीफ का यह निशाना सीधे तौर पर प्रधानमंत्री के लिए माना जा रहा था। इसके बाद अपने टीवी संबोधन में PM नवाज शरीफ ने आक्रामक अंदाज में स्पष्ट किया कि धमकियों से वह डरने वाले नहीं हैं। 

सैन्य प्रमुख परवेज मुशर्रफ द्वारा खुद को अपदस्थ किए जाने की घटना का भी शरीफ ने टीवी संबोधन में जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'एक प्रधानमंत्री (नवाज शरीफ) को जबरन पद से हटाकर हथकड़ी पहनाकर पहले जेल में और फिर निर्वासन पर जाने के लिए मजबूर किया गया था। आज मेरा इस्तीफा मांगने वालों ने उस वक्त क्यों नहीं इसके विरोध में सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं गए थे?' 

उन्होंने खुद पर और अपने परिवार पर आरोप लगाने वालों को चुनौती देते हुए कहा, 'अगर आरोपों में थोड़ी भी सच्चाई निकली तो मैं तत्काल अपने पद से इस्तीफा दे दूंगा। मैं खुद मुख्य न्यायधीश को पत्र लिखकर एक कमिशन बनाने की सिफारिश करूंगा। कमिशन मुझ पर लगे आरोपों की निष्पक्ष जांच करने के लिए स्वतंत्र है। अगर मुझ पर लगाए गए आरोप गलत साबित हुए तो क्या आज जो लोग मुझे और मेरे परिवार को बुरा-भला कह रहे हैं, वो राष्ट्र से माफी मांगेंगे?'