#Pakistan में Sharif vs Sharif की लड़ाई चरम पर, सरकार और सेना आमने-सामने, नवाज ने की शरीफ को 'ठिकाने' लगाने की तैयारी

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (22 अक्टूबर): PoK में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान में बुरी तरह से खलबली मची हुई है। दुनिया में अलग-थलग पड़ चुका पाकिस्तान अब अपने घर में ही जंग लड़ रहा है। जंग, सेना और सरकार के बीच चल रही है। पहले खबर आई कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और जनरल राहिल शरीफ आमने-समाने आ गए है। फिर खबर आई कि नवाज के भाई शाहबाज शरीफ और ISI चीफ रिजवान अख्तर में तू-तू, मैं-मैं की नौबत तक आ गई। ISI चीफ को हटाने की खबरें पाकिस्तानी मीडिया की सुर्खियां बनी। अब खबर आ रही है कि जनरल राहिल शरीफ की सेना प्रमुख पद से छुट्टी तय है। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जिस तरह पाकिस्तान दुनियाभर में अलग-थलग पड़ा, दुनिया का हर देश पाकिस्तान पर ऊंगली उठा रहा है। उसके बाद प्रधानमंत्री नवाज शरीफ जनरल राहिल शरीफ का कार्यकाल नहीं बढ़ने देना चाहते। इसी क्रम में इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने सेना प्रमुख को फील्ड मार्शल बनाने की याचिका को भी खारिज कर दिया है। गौरतलब है कि जनरल शरीफ का तीन वर्षीय कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त हो रहा है लेकिन फिलहाल स्थितियों को देखते हुए जनरल शरीफ अभी पद छोड़ने के मूड में नहीं हैं। जानिए क्या है पूरा विवाद- 

- नवाज सरकार 10 दिन के अंदर साफ कर देगी कौन लेगा जनरल शरीफ की जगह। - पाक समाचार एजेंसी APP ने वरिष्ठ मंत्री तारिक फजल के हवाले से किया खुलासा। - 29 नवंबर को जनरल राहिल शरीफ सेना प्रमुख पद से सेवानिवत्त होने वाले हैं। - जनरल शरीफ ने कई महीना पहले घोषणा की थी कि उन्हें दूसरा कार्यकाल नहीं चाहिए। - लेकिन PoK में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान में परिस्थितियां बदल गई है। - पाकिस्तान की सरकार और सेना भारत के कूटनीति के चक्रव्हयू में फंस गई है। - दुनिया में अलग-थलग पड़ चुके पाकिस्तान पर आतंकियों पर कार्यवाही का दवाब है। - ऐसे में आतंकवाद की पाक परस्ती पर नवाज शरीफ ने सेना प्रमुख आमने सामने हैं। - यदि जनरल शरीफ का कार्यकाल नहीं बढ़ा तो यह अपने आप में एक इतिहास होगा। - जनरल शरीफ से पूर्व जनरल कयानी समेत सभी जनरलों का कार्यकाल बढ़ाया गया था। - कानून के अंतर्गत प्रधानमंत्री को नए सेना प्रमुख की नियुक्ति का विशेषाधिकार है।  - इस संबंध में प्रधानमंत्री की शक्ति असीमित है, लेकिन सेना प्रमुख उन्हें परामर्श दे सकता है। 

Sharif vs Sharif हो चुकी है पाकिस्तान की लड़ाई...  - मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही नवाज शरीफ और राहिल शरीफ में जबरदस्त टकराहट चल रही है।  - भारत के PoK में सर्जिकल ऑपरेशन के बाद यह झगड़ा चरम पर पहुंच गया है। - 6 अक्टुबर को पाकिस्तान के अखबार डॉन में छपी खबर के मुताबिक दोनों शरीफ आमने-समाने आ गए है। - यह खबर छपने के बाद डॉन के पत्रकार को सरकार और सेना ने काफी परेशान भी किया। - पत्रकार सिरिल अलमेडा की खबर के मुताबिक नवाज शरीफ ने जनरल शरीफ तो सबसे सामने सुनाया। - नवाज शरीफ ने राहिल शरीफ से साफ कहा कि जो हालात बनें उनमें पाकिस्तान दुनिया में अलग थलग पड़ा है। - सेना कोई भी कार्रवाई करे तो सरकार से राय विचार जरूर करे, एकतरफा कार्रवाई ना की जाए। - अगर सरकार की एजेंसियां बैन आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करती है तो सेना कोई दखलअंदाजी ना करे। - एजाज चौधरी के प्रेंजेटेशन के बाद ISI चीफ जनरल रिजवान और शाहबाज शरीफ में हुई बहस। - ISI चीफ जनरल रिजवान ने जब कहा कि सरकार आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। - इस पर पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ उबल पड़े, उन्होंने ISI चीफ पर ही ठीकरा फोड़ दिया। - उन्होंने कहा कि राज्य प्रवर्तन एजेंसियां जब आतंकियों को पकड़ती है तो ISI उन्हें आजाद करा देती है।

नवाज शरीफ ने बनाया एक्शन प्लॉन... - नवाज शरीफ ने पाकिस्तान को दुनियाभर में अलग-थलग पड़ने के बचाने के लिए एक्शन प्लान बनाया है। - एक्शन प्लान को दो हिस्सों में बनाया गया, एक आतंकी संगठनों को शांत करना दूसरा भारत को संतुष्ट करना। - एनएसए नसीर जांजुआ की अगुवाई में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक कमेटी बनाई है। - जिसका काम बैन होने के बाद नाम बदलने वाले संगठनों पर काबू करना है। - वहीं दूसरा प्लान भारत को संतुष्ट करने के लिए पठानकोट हमले की जांच नए सिरे से कराई जा सकती है। - रावलपिंडी में एंटी-टेररिज्म कोर्ट में चल रहे मुंबई हमले का ट्रायल भी दोबारा शुरू होगा।  - पर सवाल है कि हाफिज सईद, मसूद अजहर, लखवी जैसे आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।