शनि शिंगणापुर में महिलाओं की पूजा पर फैसला करेंगे सीएम फडणवीस

रोहित वालके/दीपक दुबे, मुंबई (6 फरवरी): महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाएं पूजा करेंगी या नहीं यह विवाद और उलझ गया है। ताजा खबर है कि इस मसले पर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती की ओर से इलाहाबाद में बुलाई गई धर्मसंसद ने भी कहा है कि महिलाओं के शनि पूजा पर रोक सही है। इससे पहले आज अहमदनगर जिला प्रशासन ने भूमाता ब्रिगेड और शिंगणापुर मंदिर ट्रस्ट के साथ बैठक की, जिसमें फैसला हुआ कि सीएम देवेंद्र फडणवीस जो कहेंगे वही होगा।

महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं को पूजा का हक आज भी नहीं मिल पाया। अहमदनगर जिला प्रशासन की पहल पर मंदिर ट्रस्ट और भूमाता ब्रिगेड की महिलाओं को बुलाकर आमने-सामने करीब 1 घंटे तक बातचीत हुई। भूमाता ब्रिगेड ने भले इस बैठक को समाधान की दिशा में बढ़ता कदम बताया लेकिन इस बैठक में मंदिर ट्रस्ट महिलाओं की मांग पर सहमत नहीं हुआ है। आखिरकार फैसला हुआ कि सीएम देवेंद्र फडणवीस इस विवाद पर आखिरी फैसला लेंगे।

भूमाता ब्रिगेड को अपने हक में फैसले की उम्मीद इसलिए है क्योंकि इससे पहले सीएम फडणवीस ने महिलाओं को बराबरी के दर्जे की बात कही थी। जबकि मंदिर ट्रस्ट 400 साल पुरानी परंपरा नहीं टूटने देने पर अड़ी है। बहरहाल अभी ये साफ नहीं है कि अहमदनगर के कलेक्टर आज की बैठक की रिपोर्ट सीएम फडणवीस को कब तक भेजेंगे और उसके बाद सीएम उस रिपोर्ट पर अपना फैसला कब सुनाएंगे। वैसे इलाके के जनप्रतिनिधि भी मंदिर की पुरानी परंपरा के तोड़े जाने के पक्ष में नहीं हैं।

आपको बता दें कि शनि शिंगणापुर में महिलाओं के पूजन को लेकर तब विवाद शुरू हुआ था जब एक महिला ने सुरक्षा घेरा तोड़कर शनि शिला की पूजा कर डाली। उसके बाद भूमाता ब्रिगेड ने शनि पूजा की मांग पर जोरदार प्रदर्शन किया था।