शहीद गुरसेवक के गांव में नहीं मनेगी दिवाली,एक दिया जलाकर गांववाले देंगे श्रद्धांजलि

 

पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में शहीद हुए गुरसेवक सिंह के गांव में इस साल दिवाली नहीं मनाई जाएगी। अंबाला जिले के गरनाला गांव के रहने वाले गुरसेवक सिंह एयरफोर्स में गरुड़ कमांडो में तैनात थे और इसी साल 2 जनवरी को पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में वो शहीद हो गए थे। पठानकोट आतंकी हमले में गुरसेवक सिंह समेत 7 जांबाज जवान शहीद हो गए थे। गांववालों ने फैसला किया है कि वो गुरसेवक सिंह की शहादत को नमन करते हुए इस साल दीपावली पर सिर्फ एक दिया जलाएंगे।

पिछले साल 18 नवंबर को गुरसेवक सिंह की शादी हुई थी लेकिन शादी के महज डेढ़ महीन के भीतर वो शहीद हो गए। दो जनवरी को तड़के तीन बजे गुरसेवक अपनी टीम के साथ एयरफोर्स स्टेशन में सर्च ऑपरेशन के लिए निकले थे, इसी दौरान उनका सामना आतंकियों से हो गया और गुरसेवक शहीद हो गए।15 अगस्त को वीर शहीद को शौर्य चक्र से नवाजा गया, वहीं इससे ठीक दो दिन पहले यानि 13 अगस्त को गुरसेवक सिंह की पत्नी जसप्रीत कौर ने एक बेटी को जन्म दिया। परिवार वालों का कहना है कि वो अपनी इस बच्ची को भी सेना की वर्दी में देखना चहाते हैं।