श्मशान घाट पर सेक्स वर्कर्स ने सजाई डांस की महफिल

पीयूष आचार्या, वाराणसी, (14 अप्रैल) : शिव की नगरी काशी के अपने अलग-अलग रंग हैं। दुनिया में शायद काशी ही ऐसा शहर है, जहां एक तरफ मणिकर्णिका घाट पर चिता जलती है, तो दूसरी तरफ बाबा मशान नाथ जी के दरबार में संगीत और नाच-गाने की महफिल सजती है। यहां त्रिदिवसीय संगीत महोत्सव का आयोजन हुआ, जहां सेक्स वर्कर्स ने जमकर डांस किया। 

दुनिया में सिर्फ वाराणसी में ही ऐसा अद्भुत संयोग देखने को मिलता है, जहां श्मशान घाट पर एक तरफ चिता जलती है तो दूसरी तरफ नाच-गाने की रंगीन महफिल सजती है। वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर हर साल चैत्रीय नवरात्र में बाबा मशान नाथ जी के दरबार में इसी तरह चिताओं के बीच महफिल सजती है।

मान्यता ये है कि सैकड़ों साल पहले काशी के राजा मान सिंह ने बाबा मशान नाथ जी के मंदिर का निर्माण कराया था। तब उनके दरबार में कार्यक्रम पेश करने के लिए मशहूर कलाकारों को बुलाया था, लेकिन क्योंकि ये मंदिर श्मशान घाट के बीचों-बीच मौजूद था इसलिए उन्होंने यहां आने से मना कर दिया। आखिर में सेक्स वर्कर्स ने यहां आने के लिए तैयार हुई और उन्होंने इस तरह नाच-गाकर बाबा के दरबार में अपनी हाजिरी लगवाई।