पहले थी सेक्स वर्कर, एक फैसले ने बना दिया छोटे पर्दे की सुपर सेलेब्स

नई दिल्ली (21 जून): बारह साल की सोफी ओ'ब्रॉयन का पिता नहीं था। ब्यॉयफ्रेंड के लिए मां ने उसे अनाथ छोड़ दिया था। एक अधेड़ रिश्तेदार ने उसे अपने साथ रखा और ड्रग्स का आदी बनाकर उसका यौन शौषण करने लगा। उस शख्स ने भी उसे किसी अन्य के हाथ बेच दिया। सोफी वहां से भाग निकली। अब उसके सामने पेट पालने और जिंदा रहने के लिये सेक्स वर्कर बनने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं था।... लेकिन वही सोफी आज अमेरिका के सबसे चर्चित और पसंदीदा टीवी सीरियल गेम ऑफ थ्रोन्स की सुपर स्टार है।

वो अब नकली सोफी ओ'ब्रॉयन भी बल्कि असली जोसफीन गिलेन है। गेम ऑफ थ्रोन्स की एक्ट्रेस जोसफीन गिलेन की रियल लाइफ कहानी सुनकर हर किसी की आंखे नाम हो जायेंगी। जोसफीन कहती है कि गेम ऑफ थ्रोन्स ने मुझे जिंदगी भर सेक्स वर्कर बने रहने से बचा लिया। अब 27 साल की हो चुकी जोसफीन गेम ऑफ थ्रोन्स के दूसरे सीजन में आई थी और इसके बाद उन्हें तीसरे, चौथे, पांचवे और अब छठे सीजन में भी देखा गया है। अमेरिकी लेखक जोर्ज आरआर मार्टेन की किताब पर बना यह शो टीवी पर आने के बाद कुछ ही दिनों में लोगों का फेवरेट बन गया है।

जोसफीन बताती है कि इसके पहले मैं सोफी ओ ब्रायन के नाम से एडल्ट फिल्मों में काम कर रही थी। जोसफीन ने बताया कि गेम ऑफ थ्रोन्स निर्माता एक ऐसी लड़की की तलाश कर रहे थे जिसका फिगर अच्छा हो, उसकी बॉडी पर कोई टैटू न हो। इन लोगों की एक शर्त यह भी थी कि लड़की को न्यूड सीन करने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उसने कहा कि मैंने विज्ञापन देखते ही अपना प्रोफाइल भेज दिया, और छोटे से ऑडिशन के बाद उसका सेलेक्शन हो गया। आज वो अमेरिका की सेलेब्रिटीज़ में गिनी जाती है।