आफत में आए यौनकर्मी, नए कानून में कहा गया, 'ग्राहकों को अपनी सर्विसेज़ की दो रसीद'

नई दिल्ली (17 मार्च): ऑस्ट्रिया में बनाए गए नए टैक्स कानून के चलते वहां के यौनकर्मियों के लिए परेशानी खड़ी हो गई है। दरअसल नए नियमों के मुताबिक, उन्हें सभी ग्राहकों को एक रसीद जारी करना होगा। जिसमें ग्राहकों को प्रदान की गई सभी सेवाओं का पूरा ज़िक्र करना होगा।

'मेलऑनलाइन' की रिपोर्ट के मुताबिक, इस नए कानून के चलते, फ्रीलांस आधार पर काम करने वाले स्ट्रिपर्स और प्रॉस्टीट्यूट्स को ऑस्ट्रिया में सेक्स क्लब्स चलाने में दिक्कत हो रही है। साथ ही यह भी सवाल उठ रहे हैं, कि सेक्स क्लब्स में दी जाने वाली सेवाओं को रसीदों पर कैसे लिस्टेड किया जाना चाहिए और उनपर टैक्स का भुगतान किया जाए। ये सेवाएं ऑस्ट्रिया में कानूनी तौर पर वैध हैं।

बदले गए टैक्स सिस्टम के चलते ऑस्ट्रिया में सभी व्यापारों पर प्रभाव पड़ा है। जिसमें मांग की गई है कि सभी ग्राहकों को रसीदें दी जाएंगी, जिनमें सेक्स क्लब्स को तक छूट नहीं दी गई है। इसके चलते कई तरह की अस्पष्टता सेक्स क्लब मैनेजमेंट में फैल गई है। जो इस बात पर सफाई चाहते हैं कि उनकी सेवाओं को आइटमाइज्ड बिल्स में कैसे लिखा जाए?