डेबिट-क्रेडिट कार्ड और ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन पर देना होगा इतना चार्ज

नई दिल्ली (28 मार्च): अगर आप डेबिट, क्रेडिट कार्ड और ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन ज्यादा करते हैं तो ये खबर आपके

जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी है। क्योंकि अब नकद भुगतान की तुलना में डिजिटल ट्रांजैक्‍शन आपकी जेब पर भारी पड़ने वाला है।


जब आप क्रेडिट या डेबिट कार्ड से स्‍वाइप मशीन के जरिए भुगतान करते हैं तो सोचते हैं कि यह बिल्‍कुल मुफ्त है। आप उस समय शायद यह भूल जाते हैं कि डेबिट और क्रेडिट कार्ड लेने के लिए भी आपको एक शुल्‍क का भुगतान बैंक को करना होता है। ऐसे डेबिट या क्रेडिट कार्ड की सालाना फीस 200 रुपए से अधिक हो सकती है।


यह भी मत भूलें कि आपका डेबिट कार्ड एक ATM कार्ड की तरह भी काम करता है और अगर आपने मिनिमम फ्री ट्रांजैक्‍शन कर लिए तो उसके बाद ATM से किए जाने वाले प्रत्‍येक ट्रांजैक्‍शन के लिए आपको 15-20 रुपए का भुगतान करना होगा।


दिलचस्‍प बात यह है कि जब कभी आप दुकानदार के यहां अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से भुगतान करते हैं तो उसे बैंक के अलावा पेमेंट नेटवर्क जैसे वीजा, मास्‍टरकार्ड या रूपे को शुल्‍क देना होता है। ज्‍यादातर मामलों में दुकानदार यह शुल्‍क भी आपसे ही वसूलते हैं।


इलेक्‍ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर

फंड ट्रांसफर के लिए आप आम तौर पर नेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग का सहारा लेते हैं। इनमें लॉग-इन करने के लिए आपसे कोई चार्ज नहीं लिया जाता, लेकिन जब आप NEFT के जरिए कोई ट्रांजैक्‍शन करते हैं तो आपको 2.5 से 25 रुपए और RTGS  के लिए 30 से 55 रुपए लिए जाते हैं। वहीं प्रत्‍येक IMPS ट्रांजैक्‍शन के लिए 5-15 रुपए का शुल्‍क लगता है।