6500 करोड़ रुपए की फिरौती देकर छूटे सऊदी अरब के प्रिंस

नई दिल्ली ( 28 नवंबर ): भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद सऊदी अरब के प्रिंस मितब बिन अब्दुल्ला को तीन हफ़्तों से अधिक हिरासत में रखने के बाद मंगलवार को रिहा कर दिया गया है। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। 

कभी राज सिंहासन के दावेदार के रूप में देखे जाने वाले प्रिंस मितब को 6500 से भी अधिक की अदायगी के लिए राज़ी होने के बाद रिहा किया गया। 

खलीज टाइम्स के अनुसार, सऊदी अधिकारियों का कहना है कि प्रिंस मितब ने करप्शन की बात स्वीकारी है और सरकार से डील के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया है। इनके अलावा करप्शन केस में शामिल तीन और लोग भी सऊदी सरकार के साथ समझौते तक पहुंच गए हैं। बता दें कि सऊदी अरब की सरकार ने भ्रष्‍टाचार के खिलाफ कड़ा कदम उठाया था। सऊदी अरब की भ्रष्टाचार निरोधक कमेटी ने 11 राजकुमारों, चार मंत्रियों और दर्जनों पूर्व मंत्रियों को हिरासत में लिया था। इन 11 राजकुमारों में सऊदी के सबसे अमीर रॉयल अलवलीद बिन तलाल अल सऊद भी शामिल हैं।

64 वर्षीय मितब पूर्व किंग अब्दुल्लाह के बेटे हैं और इस परिवार के ऐसे इकलौते सदस्य हैं, जो किसी बड़े पद पर थे। इस गिरफ़्तारी से पहले उन्हें उनके पद से हटा दिया गया था। भ्रष्टाचार के आरोप में इस महीने के शुरुआत में प्रिंस, मंत्री और शीर्ष व्यवसायियों को गिरफ्तार कर लक्जरी होटल में रखा गया था।