सेना ने बुरहान ग्रुप के सभी आतंकियों का 18 महीनों में किया सफाया

श्रीनगर (15 अक्टूबर): घाटी में सेना आतंकियों का चुन-चुनकर सफाया कर रही है, जिसे कश्मीर में माहौल काफी सुधरें हैं। सेना की कार्रवाई के बाद से आतंकी काफी डरे हुए हैं और आतंकी संगठनों की कमर भी टूटी है।

2015 में कश्मीर में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी और उसके 10 साथियों की तस्वीर में दिख रहे 10 आतंकी 18 महीने में सेना के ऑपरेशन में मारे गए। बुरहान ब्रिगेड का आखिरी आतंकी वसीम अहमद शाह शनिवार को पुलवामा में मारा गया। वहीं एक आतंकी तारिक पंडित ने सरेंडर किया। वह जेल में है।

ऐसे किया सफाया... 1. नीसर अहमद पंडित: 7 अप्रैल 2016 को एनकाउंटर हुआ। पहले पुलिस में था। 2. वसीम मल्लाह: 17 अप्रैल 2016 को एनकाउंटर हुआ। शोपियां में तीन पुलिसवालों की हत्या में शामिल था। 3. इशफाक हमीद: 7 मई 2016 को एनकाउंटर हुआ। सम्पन्न परिवार का था। 2015 में आतंकी बना। 4. तारिक अहमद पंडित: 29 मई 2016 को सरेंडर किया। 5. बुरहान वानी: 8 जुलाई 2016 को एनकाउंटर हुआ। पढ़ाई में टॉपर, अच्छा क्रिकेटर भी था। पोस्टर ब्वॉय कहा जाता था। इसकी मौत के बाद कश्मीर में काफी बवाल हुआ। 6. आफाक उल्लाह: 28 अक्टूबर, 2016 को एनकाउंटर हुआ। 2015 में आतंकी बना। एमटेक की पढ़ाई की। 7. सद्दाम पैडर:2 फरवरी, 2017 को एनकाउंटर हुआ। बुरहान वानी का सबसे करीबी दोस्त था। 8. सब्जार अहमद भट:31 मई 2017 को एनकाउंटर हुआ। बुरहान के बाद हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बना था। 9. आदिल खांडे: 10 सितंबर 2017 को एनकाउंटर हुआ। आतंकी बनने से पहले स्कूल बस चलाता था। 10. वसीम शाह: 14 अक्टूबर 2017 को एनकाउंटर हुआ। बुरहान ब्रिगेड का आखिरी आतंकी था।