Blog single photo

पाकिस्तानः मौलाना और इमरान के बीच पिस रही आवाम, 'बागियों' पर एक्शन के लिए फौज तैयार

मौलाना और सरकार दोनों के अड़ियल रवैये के कारण पाकिस्तान के हालात बेकाबू होने की आशंका बढ़ गयी है। पाकिस्तान संगीन हालातों से दुनिया की दूसरी ताकतें भी सतर्क हैं। क्योंकि पाकिस्तान में बगावत भड़कने का असर भारत और अफगानिस्तान के अलावा ईरान पर भी पड़ सकता है। इसके अलावा पाकिस्तान में चल रहे चीन के अरबों-खरबों रुपयों प्रोजेक्टस की सुरक्षा पर भी असर पड़ने की आशंका है।

राजीव शर्मा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (3 नवंबर): जैसे-जैसे मौलाना के अल्टीमेटम का समय बीत रहा है वैसे-वैसे पाकिस्तान में खौफ बढ़ता जा रहा है। पाकिस्तान के लोगों को अगले पल किसी भी अनहोनी का डर सता रहा है। इस्लामाबाद में धरने के तीसरे दिन मौलाना फजलुर्रहमान ने इमरान खान को फिर सीधे चुनौती देते हुए कहा कि पाकिस्तान की सरकार अब उनके हाथ में अब वो सरकार चलाएंगे। पाकिस्तान को गरीबी और गुरबत से ऊपर उठाएंगे। मौलाना ने कहा है कि इमरान खान उनके और प्रदर्शनकारियों के सब्र का इम्तहान न लें। इस्तीफा दें और नये चुनावों का ऐलान करें। तो वहीं पाकिस्तान सरकार ने मौलाना फजलुर रहमान के खिलाफ बगावत करने का मुकदमा दर्ज करने का ऐलान किया है।

मौलाना और सरकार दोनों के अड़ियल रवैये के कारण पाकिस्तान के हालात बेकाबू होने की आशंका बढ़ गयी है। पाकिस्तान संगीन हालातों से दुनिया की दूसरी ताकतें भी सतर्क हैं। क्योंकि पाकिस्तान में बगावत भड़कने का असर भारत और अफगानिस्तान के अलावा ईरान पर भी पड़ सकता है। इसके अलावा पाकिस्तान में चल रहे चीन के अरबों-खरबों रुपयों प्रोजेक्टस और पाकिस्तान में रह रहे चीनी नागरिकों की सुरक्षा पर भी असर होने के आसार बढ़ गये हैं।

मौलाना के अल्टीमेटम का समय खत्म होने और सरकार के साथ कोई भी समझौता मानने से इंकार करने वाले मौलाना के बयान के बाद इस्लामाबाद के रेड जोन की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। सेना पूरी तरह से तैयार है। किसी भी समय पाकिस्तानी फौज हरकत में आ सकती है। पाकिस्तानी फौज ने इमरान खान को मश्विरा दिया है कि कोर्ट के माध्यम से मौलाना के खिलाफ अरेस्ट वारंट लेकर आधी रात के समय कार्रवाई को अमल में लाया जाये। सुबह होने से पहले मौलाना को कोर्ट के सामने पेश कर उन्हें अनजान जगह पर कैद कर लिया जाये। प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया जाये और जो फौज की कार्रवाई में अड़ंगा डाले उसके खिलाफ सख्ती से पेश आया जाये।

पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक फौज के हुक्कामों ने इमरान खान को आधी रात के बाद कार्रवाई का मश्विरा इसलिए दिया है ताकि दिन भर की थकावट के बाद रात को गहरी नींद में सो रहे मौलाना के कारकूनों को काबू करना ज्यादा आसान होगा। इसके अलावा रात को मौलाना के कारकूनों को बाहरी मदद भी हासिल नहीं होगी। कुछ ही घण्टों की कार्रवाई के बाद मौलाना की गिरफ्तारी का धरना खत्म होने की खबरों से मौलाना के कारकूनों का जोश ठण्डा हो जायेगा।

ऐसा बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी फौज की इस कार्रवाई का खुलासा खुद फौज के ही अफसरों ने किया है। फौज के यह अफसर मौलाना के धरने का समर्थन कर रहे हैं। इन अफसरों ने मौलाना को खबरदार किया है कि रात को अचानक ब्लैक आउट होने और मोबाइल फोन के सिग्नल गायब हो जायें तो समझलेना की फौजी कार्रवाई शुरू हो चुकी है।

हालांकि पाकिस्तान के रक्षा मंत्री और राब्ता कमेटी के चेयरमेन परवेज खटक ने इन सभी बातों को अफवाह बताया है। उन्होंने कहा कि आजादी मार्च को लेकर सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं है, लेकिन विपक्षी नेताओं का 'राष्ट्रीय संस्थानों को अपमानित' करना दुर्भाग्यपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि देश के लिए बलिदान देने वाली संस्थाओं के खिलाफ भाषण 'देश के साथ दुश्मनी' के समान होगा। खटक ने स्पष्ट रूप से कहा कि खान किसी भी तरह से इस्तीफा नहीं देंगे।

परवेज खटक ने कहा है कि सरकार मौलाना और विपक्षी दलों के साथ बातचीत करने के लिए तैयार है, लेकिन इस्लामाबाद प्रशासन के साथ किए गए समझौते का उल्लंघन होने पर कानून अपना काम करेगा।

Images Courtesy: Google

Tags :

NEXT STORY
Top