BREAKING: दोषी करार दिए गए राम रहीम, होगी 7 साल की सजा!

नई दिल्ली(25 अगस्त): 15 साल पुराने यौन उत्पीड़न मामले में सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम को दोषी करार दे दिया है। राम रहीम के खिलाफ धारा 376 के तहत चल रहे मामले में उन्हें 28 अगस्त को कम से कम सात साल की सजा का ऐलान हो सकता है। 

- इस धारा के तहत आने वाला अपराध आईपीसी की गंभीर श्रेणी में आता है। इस संगीन अपराध को अंजाम देने वाले व्यक्ति को कम से कम 7 साल और अधिक से अधिक 10 साल की सजा का प्रावधान है।

आइए जानते हैं आईपीसी की इस धारा के बारे में..,.

- किसी भी महिला के साथ बलात्कार करने के आरोपी पर आईपीसी की धारा 376 के तहत मुकदमा चलाया जाता है। अपराध सिद्ध हो जाने पर दोषी को न्यूनतम सात साल और अधिकतम दस साल की कड़ी सजा दिए जाने का प्रावधान है। इसके अलावा दोषी पर अदालत जुर्माना भी कर सकती है।

- जब कोई पुरुष किसी महिला के साथ उसकी इच्छा के विरुद्ध सम्भोग करता है, तो उसे बलात्कार कहते हैं। किसी भी कारण से सम्भोग क्रिया पूरी हुई हो या नहीं लेकिन कानूनन वह बलात्कार ही कहलायेगा। इस अपराध के अलग-अलग हालात और श्रेणी के हिसाब से इसे धारा 375, 376, 376क, 376ख, 376ग, 376घ के रूप में विभाजित किया गया है।

- यदि कोई पुरुष किसी महिला की इच्छा के विरुद्ध, उसकी सहमति के बिना, उसे डरा धमकाकर, उसका नकली पति बनकर, दिमागी रूप से कमजोर या पागल महिला को धोखा देकर और उसके शराब या अन्य नशीले पदार्थ के कारण होश में नहीं होने पर उसके साथ सम्भोग करता है तो वह बलात्कार ही माना जाएगा।

-  यदि स्त्री 16 वर्ष से कम उम्र की है तो उसकी सहमति या बिना सहमति के होने वाला सम्भोग भी बलात्कार है। यही नहीं यदि कोई पुरुष अपनी 15 वर्ष से कम उम्र की पत्नी के साथ सम्भोग करता है तो वह भी बलात्कार ही है।